अब नहीं हो पाएगी इंटरनेट डाटा में सेंधमारी, वाईफाई प्रोटेक्टर करेगा पहरेदारी

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (18 जून): कभी-कभी आपको लगता होगा कि आप नेट यूज नहीं कर रहे और आपके नेट खत्म होता जा रहा है। आपको लगता है कि कोई अन्य व्यक्ति आपके इंटरनेट डाटा में सेंध लगा रहा है तो वाईफाई प्रोटेक्टर मोबाइल एप आपके पहरेदार बन सकते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही खास एप के बारे में। 

वाईफाई किल एप्लीकेशन न सिर्फ दूसरों को वाईफाई हॉटस्पॉट से जुड़ने से रोकने में मदद करता है, बल्कि आप किसी पब्लिक वाईफाई का इस्तेमाल कर रहे हैं तो यह उसकी स्पीड बढ़ाने का विकल्प भी देता है। यह एप गूगल प्लेस्टोर पर  Free Wifi Kill reference नाम से उपलब्ध है। बता दें कि पब्लिक वाईफाई नेटवर्क में सुरक्षा संबंधित कई खामियां होती हैं। 

साथ ही वहां से डिवाइस में वायरस आने का खतरा भी ज्यादा होता है। अगर आपके आसपास कुछ लोग पब्लिक वाईफाई का इस्तेमाल करते हैं, तो यह एप उन्हें डाटा चुराने से रोकता है। गौर करने वाली बात यह है कि वाईफाई किल सिर्फ रूट किए गए स्मार्टफोन के साथ काम करता है।

4.3 रेटिंग वाला यह एप मुफ्त में मौजूद है। इस एप का इस्तेमाल करके यूजर इस बात की जानकारी हासिल कर सकते हैं कि उनके वाई-फाई राउटर या हॉटस्पॉट से कितने लोगों ने अपना डिवाइस कनेक्ट कर रखा है। साथ ही उन डिवाइस का नाम और उनका मैक एड्रेस भी इसमें दिखाई देगा। एप डेवलपर का दावा है कि यह एप्लीकेशन सभी जानकारी 30 सेकेंड के अंदर बताने में सक्षम है। यह एप एंड्रॉयड 2.3 जिंजरब्रेड ऑपरेटिंग सिस्टम या उससे ऊपर के वर्जन पर काम करता है। यह एप गूगल प्ले स्टोर पर Wifi Inspector नाम से उपलब्ध कराया गया है।

गूगल प्लेस्टोर पर मौजूद Fing - Network Tools एप को अपने स्मार्टफोन या टैबलेट में इंस्टॉल करने के बाद यूजर जान सकते हैं कि आपके राउटर से कितने डिवाइस कनेक्ट हैं। फिंग में ‘मैन्यूफेक्चर’, ‘मैक’ और डिवाइस का आइकन दिखाई देता है। इसमें डिवाइस की हिस्ट्री भी देखी जा सकती है। साथ ही यह भी पता लगा सकते हैं कि कौन सी डिवाइस कब वाई-फाई राउटर से कनेक्ट हुई थी।