ये है दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी दीवार, एक साथ दौड़ सकते हैं 10 घोड़े

उदयपुर (26 जनवरी): भारत अपने विशाल किलों के लिए पूरी दुनिया में फेमस है। शायद आपको पता न हो कि दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी दीवार भी भारत में है। यह है राजस्थान के उदयपुर में बने कुंभलगढ़ किले में। 30 किमी में फैले इस किले को 15वीं सदी में राणा कुम्भा ने बनवाया। 15 साल में बना यह किला 1,914 मीटर की ऊंचाई पर क्रेस्ट शिखर पर है।

रात दिन होता था काम इस दीवार को बनाने के लिए रात दिन काम चला। रात में रोशनी के लिए रोज 50 किलो घी और 100 किलो रूई लगता था।

सुरक्षा ऐसी कि परिंदा भी न मार सके पैर किले की सुरक्षा के लिए सात गेट बनाए गए हैं जिसे आज तक कोई भेद नहीं सका। इस किले में ऊंचे स्थानों पर महल, मंदिर व इमारतें बनी हैं।.

किले के अंदर हैं 360 मंदिर अंदर कुल 360 मंदिरों का समूह है जिसमें, 300 जैन मंदिर और 60 हिन्दू मंदिर हैं।

वास्तु शास्त्र के अनुसार बना किला वास्तु शास्त्र के नियमानुसार बने इस किले में एंट्री गेट, दीवारें, जलाशय, एमरजेंसी गेट, महल, मंदिर, आदि बने हैं।

संकट में यहीं ठहरा था राजपरिवार वीर महाराणा प्रताप का जन्म यहीं हुआ। मेवाड़ पर हुए आक्रमणों के समय राजपरिवार इसी किले में रहा। 

उस समय भी था महल में AC बादल महल की बनावट ऐसी है कि यहां उस समय भी पाइपों के जरीए अंदर तक ठंडी हवाएं आती थीं। कमरों में बनी जालियों से रानीयां दरबार की कार्यवाही देखती थीं।

वन अभ्यारण्य के लिए है फेमस कुम्भलगढ़ में, चार सींगों वाले हिरन, काला तेंदुआ, जंगली सूअर, भेड़ियों, भालू, सियार, सांभर हिरन, चिंकारा, तेंदुओं, जंगली बिल्ली देखे जा सकते हैं।

लाइट-साउंड शो है सबसे फेमस यहां होने वाले लाइट और साउंड शो में चारों ओर ऊंचे-ऊंचे पहाड़, घोड़ों के दौडने और तोपों की गर्जना लोगों का मन मोह लेती है।

सिर्फ एक बार आया संकट मुगल सेना से मिली जान की धमकी के बाद 3 महिलाओं ने बताया था गुप्त द्वार। फिर भी घुसने में नहीं मिली सफलता और टल गया संकट।

धोखा देने पर दीवार में जिंदा चुनवाया जब राजा को उन महिलाओं के बारे में पता चला तो उन्होंने तीनों को किले के द्वार पर दीवार में जिंदा चुनवा दिया।

अकबर भी लौटा खाली हाथ पहले अकबर फिर उसके बेटे सलीम ने भी इस किले पर फतह करने की सोची लेकिन दोनों को खाली हाथ वापस लौटना पड़ा।