पाकिस्तान का कबूलनामा- 26/11 मुंबई हमले में आतंकी हाफिज सईद का हाथ था

नई दिल्ली (6 मार्च): 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले को लेकर दुनिया के सामने बार-बार झूठ बोलने वाला पाकिस्तान एक बार फिर पूरी दुनिया के सामने बेनकाब हुआ है। पाकिस्तान को बेनकाब किसी और ने नहीं बल्कि खुद उसके एक पूर्व वरिष्ठ अधिकारी ने किया है। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार महमूद अली न पाकिस्तान को दुनिया के सामने एक्सपोज करके रख दिया है। दुर्रानी ने स्वीकार करते हुए बड़ा बयान दिया है कि 26/11 मुंबई आतंकवादी हमला पाकिस्तान के ही एक आतंकवादी संगठन ने किए थे। दुर्रानी ने यह बयान 19वीं एशियाई सुरक्षा कांफ्रेंस के दौरान दिया। कांफ्रेंस में दुर्रानी ने कहा- "26 नवंबर 2008 को मुंबई पर हुए आतंकी हमले को पाकिस्तान के आतंकियों ने अंजाम दिया था। मुझे ये स्वीकार करते हुए खराब हो लग रहा है, लेकिन ये सच है।" आतंकी संगठन जमाद-उद-दावा के मुखिया हाफिज सईद पर पूछे गए सवाल पर एनएसए दुर्रानी ने कहा कि वह पाकिस्तान के लिए बेकार है, वह किसी काम का नहीं है और पाकिस्तान को उसके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। इंस्‍टीट्यूट ऑफ डिफेंस एंड स्‍टडीज एंड एनालिसिस की ओर से आयोजित इस कांफ्रेंस में भारत के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर भी मौजूद थे। इस कांफ्रेंस की थीम, ”कॉम्‍बेटिंग टेरेरिज्‍म: इवॉल्विंग एन एशियन रेस्‍पॉन्‍स’ है। पर्रिकर ने कहा कि भारत और अफगानिस्‍तान दशकों से छद्म युद्ध के शिकार हो रहे हैं। आतंकवाद अंतरराष्‍ट्रीय सुरक्षा के लिए चुनौती है। इसका सामना करने के लिए सहयोग से वैश्विक जवाब अहम है। उन्‍होंने आतंकवाद को अंतरराष्‍ट्रीय शांति और सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया।

पाकिस्तान में नजरबंद है आतंकी हाफिज सईद- भारत लंबे समय से पाकिस्तान 26/11 मुंबई हमले के आतंकियों पर कार्रवाई की मांग कर रहा है, लेकिन पाकिस्तान हर बार सबूतों में कमी का रोना रो देता है। लेकिन 30 जनवरी को अंतरराष्ट्रीय दवाब के चलते पाकिस्तान सरकार को मजबूरन हाफिज सईद पर कार्यवाही करनी पड़ी। आतंकी हाफिज सईद को आतंकवाद रोधी अधिनियम की चौथी अनुसूची में शामिल कर दिया। साथ ही पाक सरकार ने जेडीयू जैसे आतंकी संगठनों पर भी कार्रवाई की है।

पाकिस्तान की संसद में उठे थे सवाल- "क्यों पाल रखा है, क्या अंडे देता है हाफिज"...

    * पाकिस्तान की नेशनल एसेंबली की फॉरेन अफेयर्स कमेटी में उठे थे हाफिज सईद पर सवाल।

    * नवाज की पार्टी PML-N के सांसद राणा मोहम्मद अफजल ने उठाए थे हाफिज सईद पर सवाल।

    * अफजल ने पूछा था आखिर हाफिज जैसे 'नॉन स्टेट एक्टर्स' को हर क्यों दे रहे हैं बढ़ने का मौका।

    * हाफिज के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए कहा, हम ऐसे लोगों के पर क्यों नहीं कतर रहे।

    * अफजल ने साथ ही कहा,हाफिज सईद कौन से ऐसे अंडे दे रहा है जिस वजह से हम उसे पाल-पोस रहे हैं।

पाकिस्तान को आतंकियों के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए मिला है 90 दिन का नोटिस...

    * पेरिस में पिछले सप्ताह द फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स का अधिवेशन हुआ था।

    * इस अधिवेशन में दुनियाभर के आतंकी संगठनों की फंडिग को रोकने पर चर्चा हुई।

    * जमात-उद-दावा और जैश-ए-मोहम्मद को लेकर पाकिस्तान को उठानी पड़ी फजीयत।

    * आतंकवाद के खिलाफ जंग में नाकामयाब पाकिस्तान की आर्थिक मदद रोकने पर विचार हुआ।

    * इस पर पाकिस्तान के प्रवक्ता ने टास्क फोर्स से कुछ समय की और मौहलत मांगी।

    * पाकिस्तान ने जमात-उत-दावा और जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ कार्रवाई का हवाला दिया।

    * लेकिन द फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स पाकिस्तान की बातों से संतुष्ठ नहीं दिखी।

    * अक्टूबर में पाकिस्तान ने FATF के सामने जो दावे पेश किए थे उसे खारिज कर दिया गया।

    * इसके बाद FATF ने अपने एशिया पसिफिक ग्रुप से इस संबंध में रिपोर्ट तैयार करने को कहा।

    * जिसके बाद पाकिस्तान को साफ कह दिया गया कि अगर फंडिंग चाहिए तो कार्रवाई को लेकर गंभीर हो।

    * बाद में अधिवेशन में FATF के सदस्य देशों ने पाकिस्तान को जून तक का समय और दिया।

पाकिस्तान से दुनियाभर में आतंक फैलाता है हाफिज सईद...

    * पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का मुखिया है हाफिज सईद।

    * अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित संगठन जमात-उद-दावा का प्रमुख है हाफिज।

    * अमेरिका ने दुनिया में 'आंतकवाद के लिए जिम्मेदार' लोगों की सूची जारी की है।

    * इस सूची में हाफ़िज़ सईद को दूसरे स्थान पर रखा गया है।

    * सूची में तालिबान प्रमुख मुल्ला उमर अलकायदा प्रमुख अल जवाहिरी शामिल हैं।

    * मुंबई 26/11 आतंकी हमले का आरोपी है हाफिज सईद।

    * अमेरिका ने एक करोड़ डॉलर के इनाम की घोषणा कर रखी है इस आतंकी पर।

    * पाकिस्तान सरकार के समर्थन से भारत के खिलाफ लगातार जहर उगलता रहा है हाफिज।

    * मुंबई हमलों के बाद अंतरराष्ट्रीय दबाव को देखते हुए छह महीने तक नजरबंद रखा गया था।

    * लेकिन लाहौर हाई कोर्ट के आदेश के बाद उसे 2009 में रिहा कर दिया गया।

    * भारत सरकार ने 2003, 2005 और 2008 में हुए आतंकवादी हमलों के लिए दोषी माना है।

    * हाफिज सईद ने कश्मीरियों की 'मदद' के नाम पर पैसों की उगाही करता है पाकिस्तान में।

    * जमात-उद-दावा से जुड़ा फलाह-ए-इंसानियत नाम के संगठन के जरिए की जाती है उगाही।

    * आतंकी सरगना ने पूरे पाकिस्तान में चंदा जुटाने के लिए कैंप स्थापित कर रखे हैं।

    * इसके अलावा हाफिज सईद तस्करी, ड्रग्स और मांस के निर्यात से आतंक के लिए पैसे जुटाता है।

    * एक अनुमान के मुताबिक आतंक के सरगना ने 400 करोड़ की सम्पत्ति बना ली है।

    * 2013 में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत की सरकार ने हाफिज के संगठन को 60 करोड़ का अनुदान दिया था।

    * इस पैसे का इस्तेमाल लश्कर के आतंकियों को ट्रेन करने और भारत में दहशतगर्दी फैलाने के लिए करता है।