26/11 की 10वीं बरसी आज, शहीदों को देश दे रहा है नम आंखों से श्रद्धांजलि

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (26 नवंबर): इस हमले में लश्कर ए तैयबा के 10 आतंकवादियों ने कई जगहों पर हमले कर 166 लोग की हत्या दी थी, जबकि 300 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे।  इस हमले में लश्कर ए तैयबा के 10 आतंकवादियों ने कई जगहों पर हमले कर 166 लोग की हत्या दी थी।  

आपको बता दें कि मुंबई में वर्ष 2008 में 26 नवंबर को हुए आतंकवादी हमले में 26 विदेशी नागरिकों सहित 166 लोगों की मौत हो गई। पाकिस्तान से आए 10 आतंकवादियों के साथ सुरक्षा बलों की मुठभेड़ करीब 60 घंटे तक चली थी। सुरक्षाकर्मियों के साथ मुठभेड़ में 10 में से 9 आतंकी मारे गए थे जबकि एक आतंकी अजमल आमिर कसाब को सुरक्षाकर्मियों ने जिंदा पकड़ लिया था। लंबी सुनवाई को बाद 21 नवंबर 2012 को कसाब को फांसी दी गई। जबकि इस हमले का मास्टरमाइंड हाफिज सईद आज भी पाकिस्तान में खुलेआम घूम रहा है।

Image Source: Google

26 नवंबर 2008 को समुद्र के रास्ते 10 पाकिस्तानी आतंकी मुंबई पहुंचे। उन लोगों ने सबसे पहले छत्रपति टर्मिनल पहुंच तक अंधाधुंध फायरिंग करने लगे और भीड़ पर हैंड ग्रेनेड भी फेंके। इस हमले में 58 बेगुनाह लोगों की मौत हो गई। जबकि कई लोग घायल हो गए। इसके बाद आतंकियों ने होटल ताज, होटल ओबेरॉय, लियोपोल्ड कैफे, कामा अस्पताल,  नरीमन हाउस समेत कई जगहों पर हमला किया। उस दिन मुंबई में 4 जगहों पर मुठभेड़ चली थी।26/11 हमले में एंटी टेररिस्ट स्क्वॉयड के चीफ हेमंत करकरे सबसे पहले शहीद होने वाले पुलिस अधिकारी थे। हमले की घटना की जानकारी मिलते ही हेमंत करकरे अपनी चीम के साथ सीएसटी स्टेशन पहुंचे। दोनों ओर से चली गोलीबारी में करकरे के सीने में 3 गोलियां लगी और वो शहीद हो गए।