लोकसभा चुनाव 2019: बिहार में कल इन सीटों पर हैं मतदान, समझें सारा समीकरण

न्यूज24 ब्यूरो नई दिल्ली (17 अप्रैल):  लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के तहत गुरुवार को बिहार में पांच सीटों पर मतदान होना है। बिहार के पूर्णिया, किशनगंज, बांका, कटिहार और भागलपुर में मतदान होंगे। इन चुनावों में कुल 68 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमाने जा रहे हैं। बिहार की किशनगंज लोकसभा सीट से कुल 14 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। यह मुस्लिम बहुल सीट है। इस बार यहां से बहुजन समाज पार्टी से इंद्र देव पासवान, तृणमूल कांग्रेस से जावेद अख्तर, कांग्रेस पार्टी से डॉ. मोहम्मद जावेद और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन से अख्तरुल इमान चुनाव मैदान में हैं। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में किशनगंज सीट से कांग्रेस उम्मीदवार असरार-उल-हक़ क़ासमी ने जीत दर्ज की थी। उनको 4 लाख 93 हजार वोट मिले थे। उन्होंने अपनी करीबी प्रतिद्वंदी बीजेपी के डॉ. दिलीप कुमार जायसवाल को शिकस्त दी थी।       कटिहार सीट से इस बार कुल 9 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं। कांग्रेस पार्टी से तारिक अनवर, जनता दल (युनाइटेड) से दुलाल चंद्र गोस्वामी और नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी से मुहम्मद शाकुर चुनाव मैदान में हैं तारिक अनवर और दुलाल चंद्र गोस्वामी के साथ मुहम्मद शकूर मुकाबले को त्रिकोणीय बना रहे हैं । इस बार बीजेपी यहां से चुनाव नहीं लड़ रही। यह सीट एनडीए में बीजेपी की सहयोगी जनता दल (युनाइटेड) के खाते में चली गई है। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में कटिहार सीट से एनसीपी के टिकट पर तारिक अनवर ने जीत दर्ज की थी। हालांकि अब उन्होंने कांग्रेस ज्वॉइन कर ली है।इस बार लोकसभा चुनाव में सियासी समीकरण बदलने के बाद बिहार के पूर्णिया लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में राजग गठबंधन और विपक्षी महागठबंधन के बीच सीधी टक्कर देखने को मिल सकती है। बता दें कि 2014 का चुनाव भाजपा और जदयू ने अलग-अलग लड़ा था। पिछले चुनाव में पूर्णिया सीट से जदयू के संतोष कुमार कुशवाहा ने भाजपा के उदय सिंह उर्फ पप्पू सिंह को मात दी थी। कांग्रेस के अमरनाथ तिवारी तीसरे स्थान पर रहे थे, लेकिन इस बार सियासी समीकरण बदल गये हैं।  पूर्णिया लोकसभा सीट से इस बार 13 उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतरे हैं। उदय सिंह महागठबंधन की तरफ से कांग्रेस उम्मीदवार हैं और राजग की ओर से जदयू नेता एवं मौजूदा सांसद संतोष कुशवाहा ताल ठोक रहे हैं। ऐसे में बदले सियासी समीकरण में दिलचस्प चुनावी देखने को मिल सकता है।लोकसभा चुनाव में बिहार की भागलपुर सीट पर मुख्य मुकाबला राष्ट्रीय जनता दल के शैलेष कुमार ऊर्फ बूलो मंडल तथा जदयू के अजय मंडल के बीच है। इस सीट का एक जमाने में प्रतिनिधित्व कर चुकीं कांग्रेस और भाजपा इस चुनाव में सहयोगी दल की भूमिका में हैं। हालांकि किसी भी गठबंधन की जीत में इन दोनों दलों की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के सैयद शाहनवाज हुसैन करीब नौ हजार मतों के अंतर से राजद के बूलो मंडल से हार गए थे। जदयू ने इस बार नाथनगर के अपने विधायक अजय मंडल को टिकट दिया है। इस तरह भागलपुर में लोकसभा चुनाव के दौरान ‘मंडल फैक्टर’ मुख्य हो गया है।        बिहार में आमतौर पर राजग और महागठबंधन के बीच सीधा मुकाबला है, लेकिन बांका लोकसभा सीट पर त्रिकोणीय मुकाबले की स्थिति है। बांका सीट पर महागठबंधन की ओर से राजद उम्मीदवार जय प्रकाश नारायण यादव है, वहीं जदयू प्रत्याशी विधायक गिरिधारी यादव राजग की ओर से चुनावी मैदान में हैं। पिछली बार दूसरे स्थान पर रहीं पुतुल कुमारी निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में उतरी हैं ।इस बार चुनाव मैदान में उतरे तीनों ही प्रत्याशी बांका से सांसद रह चुके हैं। बीते लोकसभा चुनाव में पुतुल कुमारी दस हजार मतों के अंतर से जयप्रकाश नारायण यादव से हारी थीं।