'स्मृति इरानी के कागजात गायब'

नई दिल्ली(24 जुलाई): दिल्ली राज्य चुनाव आयोग ने शनिवार को एक अदालत में कहा कि 2004 में चांदनी चौक से चुनाव लड़ने वाली स्मृति इरानी समेत सभी उम्मीदवारों द्वारा जमा किए गए हलफनामों और दूसरे कागजात नहीं मिल रहे हैं। चांदनी चौक से मौजूदा कपड़ा मंत्री इरानी ने भी चुनाव लड़ा था। यह मामला उन्हीं से संबंधित है।

इरानी के अलावा यहां से चुनाव लड़ने वाले कांग्रेसी उम्मीदार कपिल सिब्बल समेत दूसरे उम्मीदवारों के भी कागजात गायब हो गए हैं। हालांकि चुनाव पैनल ने कहा कि यह सूचना उसकी वेबसाइट पर उपलब्ध है।

अदालत ने आदेश दिया था कि इरानी की शैक्षणिक योग्यता से संबंधित रेकॉर्ड अदालत में पेश किए जाएं। इस आदेश पर चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कोर्ट में यह बयान दिया है। इरानी के खिलाफ चुनाव पैनल के सामने पेश हलफनामों में कथित रूप से गलत सूचना देने की शिकायत दर्ज कराई गई थी।

आयोग के अधिकारी ने मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट हरविंदर सिंह से कहा, '2004 में चांदनी चौक से लोकसभा चुनाव लड़ने वाले सभी उम्मीदवारों के मूल चुनावी फार्म और हलफनामों का यथासंभव कोशिश के बाद भी पता नहीं चल रहा है, लेकिन उनकी छायाप्रतियां आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं।' अधिकारी ने 2004 के चुनाव के सिलसिले में ईरानी द्वारा दी गई सूचना के सिलसिले में एक हलफनामा भी दाखिल किया। इसी बीच अदालत ने शिकायतकर्ता पत्रकार अहमेर खान का बयान दर्ज किया और मामले की अगली सुनवाई की तारीख 27 अगस्त तय की।

अदालत ने शिकायतकर्ता का यह अनुरोध पिछले साल 20 नवंबर को मान लिया था कि चुनाव आयोग और दिल्ली विश्वविद्यालय के अधिकारियों को इरानी की शिक्षा से संबंधित रेकॉर्ड सामने लाने का निर्देश दिया जाए, क्योंकि वह उन्हें अदालत के सामने पेश करने में असमर्थ हैं। शिकायतकर्ता ने दावा किया था कि इरानी ने 2004, 2011 और 2014 में चुनाव पैनल में दाखिल अपने हलफनामों में अपनी शैक्षणिक योग्यता के बारे में गलत जानकारी दी और उन्होंने इस मुद्दे पर चिंता प्रकट किए जाने के बाद भी कोई सफाई नहीं दी।