इसलिए पकड़े जा रहे हैं 2000 रुपये के नए नोट

नई दिल्ली (15 दिसंबर): नोटबंदी के बाद से इनकम टैक्स और पुलिस बड़ी संख्या में देश के हर कोने से 2000 रुपये के नए नोटों को काले धन के कुबेरों के यहां से बरामद कर रही है। पहले कहा जा रहा था कि इस नोट में चिप है, जिस कारण से इसका आसानी से पता लगाया जा सकता है, लेकिन अब सोशल मीडिया में खबर आ रही है कि नए नोट में एक रेडियोऐक्टिव इंक लगी हुई है।

यही स्याही इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को कालेधन की सूचना दे रही है। इसी के चलते इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के छापों में काला धन पकड़ने में कामयाबी मिल रही है।

क्या है ये रेडियोएक्टिव इंक...

- वायरल मैसेज के दावे के मुताबिक दो हजार के नए नोट में इस्तेमाल की गई रेडियोऐक्टिव इंक में फॉस्फोरस-32 है।

- दरअसल फॉस्फोरस-32 में रेडियोऐक्टिव रेडिएशन होते हैं। ऐसे में जब नोट काफी संख्या में एक जगह इकट्ठा होंगे तो उसमें काफी ज्यादा रेडिएशन होगा।

- ऐसे में डिटेक्टर्स उस नोट को ढूंढ लेंगे। इसी तरह से यदि कोई भारी संख्या में दो हजार के नोट जमा करेगा तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट को पता चल जाएगा।