जेब में नया नोट, फिर भी मारे-मारे फिर रहे हैं लोग

नई दिल्ली (13 नवंबर): नोटबंदी के बाद से देशभर में कैश की भारी किल्लत है। बैंक और ATM के बाहर लंबी-लंबी लाइनें लगी है। लोगों के पास बचे तमाम छोटे नोट अब खत्म हो चुके हैं या फिर खत्म होने के कगार पर हैं। ऐसे में लोगों को समझ में नहीं आ रहा है कि वो करें तो क्या करें। लोग अब अपने दैनिक जरूरत को भी पूरा नहीं कर पा रहे हैं। 


परेशान सिर्फ वो नहीं है जो पैसा नहीं निकाल पा रहे है। दिक्कत उन लोगों की भी है जो बैंक में लाइन लगकर पैसा निकाल चुके है। इन लोगों को बैंक से मिले पैसे में 2000 के नए नोट मिले हैं, लेकिन ये 2000 का नोट भी लोगों के लिए जी का जंजाल बनता जा रहा है। लोग 2000 के नोट से अपनी छोटी जरूरतों को पूरा नहीं कर पा रहे हैं। 100-100 के नोटों की इतनी कमी है कि कोई 2000 रुपये का खुला देने के लिए तैयार नहीं है। या यूं कहे कि लोगों के पास 2000 के नोट का चेंज है ही नहीं। यानी जेब में नए नोट होने के बावजूत लोग परे परेशान हैं और खुले के लिए मारे-मारे फिर रहे हैं।