शराबी पुलिसवालों ने युवक की गोली मारकर की हत्या

पारस जैन, बागपत (28 अप्रैल): यूपी के बागपत में मामूली कहासुनी में दो सिपाहियों पर एक शख्स की गोली मारकर हत्या का आरोप लगा है। लोगों का कहना है कि दोनों सिपाही शराब के नशे में चूर थे। 22 साल के फरीद की मौत के बाद पूरे इलाके में तनाव है।

देश की राजधानी दिल्ली से महज कुछ किलोमीटर की दूरी पर दहाड़ मारकर रो रही मां के सवालों का किसी के पास जवाब नहीं है। गांव के लोग भी नहीं समझ पा रहे हैं कि उनके हंसमुख फरीद ने आखिर पुलिसवालों का क्या बिगाड़ा था? क्राइम ब्रांच में तैनात सिपाहियों पर वर्दी का नशा इतना चढ़ जाता है कि वो किसी की जान भी ले सकते हैं?

अब तक ये साफ नहीं हो पाया है कि पुलिसवालों की फरीद से किस बात को लेकर कहासुनी हुई, लेकिन गोली की आवाज सुनते ही लोग मौके पर पहुंचे। खून से लथपथ फरीद को अस्पताल पहुंचाया गया, जहां से उसे दिल्ली के लिए रेफर कर दिया गया। लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। उसके बाद से शहर में जमकर बवाल हुआ, गुस्साए लोगों ने पुलिस की गाड़ियों में भी तोड़फोड़ की।

बागपत के लोगों का साफ-साफ कहना है कि सिपाहियों पर वर्दी और शराब दोनों का नशा चढ़ा सवार था। अब लोग इंसाफ की मांग कर रहे हैं। लोगों का गुस्सा ऐसा कि बागपत के चप्पे-चप्पे पर पुलिस का पहरा बिठाना पड़ा है। लोगों का गुस्सा शांत करने में पुलिस के पसीने छूट गए हैं। आरोपी सिपाहियों को तुरंत हिरासत में ले लिया गया।

एसपी ने भी पुष्टि की है कि आरोपी रघुवीर और जितेंद्र दोनों ही शराब के नशे में थे। अब मुकदमा दर्ज कर इस केस की हर पहलू से जांच की जा रही है। अब बड़ा सवाल ये है कि उस मां के दर्द का क्या जिसका बेटा इस दुनिया से चला गया? उस बहन के आंसूओं का क्या जिसका भाई अब इस दुनिया में नहीं रहा?