एक्सिस बैंक ने 19 कर्मचारियों को किया सस्पेंड

नई दिल्ली ( 7 दिसंबर ): निजी क्षेत्र के एक्सिस बैंक ने नोटबंदी के बाद गैरकानूनी गतिविधियों में आरोपी पाए गए अपने 19 अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। कालाधन सफेद करने के मामले में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा अपने दो प्रबंधकों की गिरफ्तारी के बाद एक्सिस बैंक ने फोरेंसिक आॅडिट के लिए केपीएमजी की नियुक्ति की है।

यह संस्था इस तरह की गतिविधियों को रोकने के लिए प्रणाली को चुस्त बनाने के उपाय सुझाएगी। एक्सिस बैंक के कार्यकारी निदेशक राजेश दहिया के अनुसार, बैंक ने 19 अधिकारियों को निलंबित किया है। इनमें से छह कश्मीरी गेट शाखा के अधिकारी हैं। राजेश दहिया के अनुसार, नोटबंदी के बाद से बैंक अपनी प्रक्रियाओं को कानून के अनुसार मजबूत करने के लिए लगातार काम कर रहा है। कुल 125 वरिष्ठ स्तर के अधिकारी देशभर में गतिविधियों की निगरानी कर रहे हैं।

एक्सिस बैंक की कश्मीरी गेट शाखा के ही दो अधिकारियों शोभित सिन्हा और विनीत गुप्ता को सोमवार को ईडी ने गिरफ्तार किया था। उन दोनों ने बेहिसाबी 40 करोड़ रुपए इस बैंक के खातों में आरटीजीएस प्रणाली से डलवाए और उनसे सोने की सिल्लियां खरीदवाने में मदद की। वे घूस में सोने की सिल्लियां ही ले रहे थे।  

उन अधिकारियों और सोना खरीदने वाले कुछ आभूषण निर्माताओं के पास से तीन किलो सोने की सिल्लियां जब्त की गईं। ईडी ने 30 नवंबर को मनी लांडरिंग की एक रपट दर्ज कर अब तक जो जांच की है उसमें पता लगा है कि बैंक में जिन फर्जी कंपनियों के नाम से खाते खुलवाए गए, उनमें एक फर्म का निदेशक एक गरीब मजदूर है।