तिहाड़ कैदियों के लिए तीर्थयात्रा, 18 कैदियों को भेजा हरिद्वार

नई दिल्ली(5 अक्टूबर): तिहाड़ जेल में गंभीर अपराधों में वर्षों से सजा काट रहे कैदियों को नई जिंदगी देने की पहल हुई है। तिहाड़ प्रशासन ने इन कैदियों के लिए रूपांतरण यात्रा की शुरुआत की है। 

- इसके तहत 18 कैदियों को फरलो (थोड़े दिन की छुट्टी) पर दो सप्ताह के लिए हरिद्वार के पंचवटी योगाश्रम ले जाया गया, जहां योग के साथ इन्हें खुलेपन से जीने का मौका मिला। देश में पहली बार तिहाड़ जेल ने ऐसी पहल की है।

- जेल महानिदेशक सुधीर यादव ने बताया कि तीन साल तक जेल में रहने के दौरान अच्छा बर्ताव करने वाले कैदियों को फरलो दी जाती है। जेल में बंद ऐसे कई कैदी हैं, जो 10 से लेकर 18 साल की सजा काट चुके हैं लेकिन उन्होंने कभी फरलो के लिए आवेदन नहीं किया। 

- यह पाया गया कि ऐसे कैदी समाज के मुख्य धारा से अलग-थलग पड़ गए हैं। जेल में भी उनसे मिलने के लिए कोई नहीं आता है। सजा पूरी होने के बाद समाज के प्रति इनकी प्रतिक्रिया क्या होगी। लिहाजा, इन्हें मुख्य धारा से जोड़ने के लिए फरलो पर पंचवटी आश्रम भेजा गया।