देश के सबसे बड़े हथियार डिपो में लगी आग, दो अफसरों समेत 20 की मौत

मुंबई (31 मई): महाराष्ट्र के वर्धा में सेना के हथियार डिपो में आग लगने से 20 जवानों जवानों की मौत हो गई। मरने वालों में दो अफसर भी शामिल हैं। जिनका नाम लेफ्टिनेंट कर्नल आरएस पवार और मेजर मनोज हैं। बताया जाता है कि बीती रात करीब एक बजे ये आग लगी। गोला बारूद में आग लगने से विस्फोट शुरू हो गया और इसके बाद भयानक आग लग गई। हालांकि हादसे की जांच के लिए टीम गठित कर दी गई है। यह देश का सबसे बड़ा गोला-बारूद डिपो है। यह एम्युनिशन डिपो 28 किमी इलाके में फैला है।

एहतियात के तौर पर आसपास के 6-7 गांव खाली करवाए गए हैं और लोगों को सुरक्षित जगह पर पहुंचा दिया गया है। आधी रात के बाद लगी आग पर काबू पाने की कोशिशें जारी हैं। डिपो से अभी भी यहां रुक-रुक कर धमाकों की आवाज आ रही है। घटना में जख्मी 19 लोगों को अस्पताल में दाखिल कराया गया है। 30 फायर ब्रिगेड की गाड़ियां मौके पर हैं।

हादसा रात के वक्त हुआ। हादसा गोला बारुद फटने से हुआ। विस्फोट की तीव्रता इतनी  ज्यादा थी कि लोगों के घरों के शीशे तक फूट गए।सेना का यह हथियार डिपो सबसे बड़ा हथियार डिपो है। हादसे का जायजा लेने के लिए रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर पुलगांव जाएंगे।

हादसे को लेकर पीएम मोदी ने दुख जताया। उन्होंने कहा कि पुलगांव में आग लगने की घटना से मैं दुखी हूं। मेरी संवेदनाएं मारे गए लोगों के परिवारों के प्रति है। मैंने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर से मौके पर जाने और जायजा लेने को कहा है। उनके अलावा सोनिया गांधी, राहुल गांधी और सीएम देवेंद्र फडणवीस ने भी हादसे पर दुख जताया है। फडणवीस ने कहा कि हम पूरी तरह मदद मुहैया करा रहे हैं। आग को काबू किया जा रहा है। मामले को लेकर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने रिपोर्ट मांगी है।