नोटबंदी के बाद से अब तक 150 करोड़ के नए नोट जब्त

नई दिल्ली(12 दिसंबर): पिछले चार दिन में करीब 12 जगहों पर 21 करोड़ का काला धन मिला। चेन्नई में माइनिंग कॉन्ट्रैक्टर शेखर रेड्डी के ठिकाने से 166 करोड़ कैश औऱ 127 किलो सोना मिला। 

- कर्नाटक के चित्रदुर्ग में बिजनेसमैन के सीक्रेट बाथरूम से 5 करोड़ 70 लाख के नए नोट मिले। दिल्ली के ग्रेटर कैलाश के लॉ फर्म के दफ्तर से 13 करोड़ 65 लाख कैश मिला। लेकिन पिछले चार दिनों में हैदराबाद से 71 लाख, मुंबई के माटुंगा से 85 लाख, गुजरात के पोरबंदर से 21 लाख, गुजरात के ही सूरत से 2 लाख, मध्य प्रदेश के होशंगाबाद से 43 लाख,जबलपुर से करीब 19 लाख, मध्य प्रदेश के ही इंदौर से 8 लाख, राजस्थान के भीलवाड़ा से सवा सात लाख और दिल्ली से सटे गुडगांव से 10 लाख के नए नोट मिले हैं।

- ये पैसे काले धन वालों के थे लेकिन इन पैसों पर हक उन लोगों का था, जो 8 नवंबर के बाद से 2-2 हजार के लिए बैंक और एटीएम की लाइनों में लगे हुए हैं। 2-2 हजार के करीब 21 करोड़ रुपए जब्त किए गए। छापे में करीब 1 लाख 2-2 हजार के नोट मिले। जब एटीएम से 2-2 का एक ही नोट एक एटीएम यूजर को मिल रहा है तो आप सोचिए कि अगर ये 21 करोड़ के नोट बैंकिंग सिस्टम में होते तो एक लाख लोगों को कम से कम 2 हजार रुपए मिल जाते। लाइन में घंटों खड़ा नहीं होना पड़ता।

- नोटबंदी के बाद 6 दिसंबर तक 400 केस में 130 करोड़ के नोट औऱ जूलरी जब्त हुए। काला धन जब्ती के सारे आंकड़ों को मिला दें तो करीब 150 करोड़ के नोट लोगों को मिलने की बजाय काले धन वालों के हत्थे चढ़ गए।  अगर इतने लोगों ने 150 करोड़ 2-2 हजार के नोट बंटते तो साढे सात लाख लोगों को लाइन में नहीं लगना पड़ता।