World Wi-Fi Day पर गूगल ने किया खुलासा, फ्री Wi-Fi स्टेशनों पर क्या देखते हैं लोग...

नई दिल्ली (21 जून): सोमवार को 'वर्ल्ड वाई-फाई डे' था। इस मौके पर गूगल इंडिया ने खुलासा किया कि भारत के 19 स्टेशनों पर 15 लाख भारतीय अब हाई-स्पीड वायरलैस ब्रॉडबैंड का फायदा उठा रहे हैं। 

गूगल इंडिया ने अपने ब्लॉग में लिखा, "हम इस साल के शिड्यूल के केवल 20 फीसदी तक ही पहुंचे हैं। लेकिन रिस्पांस अद्भुत है।"

जनवरी 2016 में मुंबई सेंट्रल भारत में पहला रेलवे स्टेशन बना था, जहां गूगल की फ्री वाई-फाई सर्विस दी गई। तब से अब 6 महीने का समय हो चुका है और गूगल ने 18 अन्य स्टेशनों पर इस फैसलिटी को इंस्टॉल किया है।

पिछले सप्ताह, गूगल ने भारत के 4 सबसे बड़े स्टेशनों सियालदाह, लखनऊ जंक्शन, लखनऊ और गोरखपुर जंक्शन पर ये सर्विस शुरू की। इस पहल को रेलवायर का नाम दिया गया है। जो भारत के 100 सबसे व्यस्त स्टेशनों पर 2016 के अंत तक अपना नेटवर्क बढ़ाना चाहते हैं। जिनमें सरकार की तरफ से प्रदान फ्री वाईफाई सर्विसेस में बेहतर स्पीड का वादा किया गया है।

गूगल ने कुछ दिलचस्प एनालिसिस दिए हैं-

1. मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर एक सप्ताह के भीतर नेटवर्क से एक लाख यूजर्स कनेक्ट हुए। 

2. एक दिन के भीतर भुवनेश्वर ने इस्तेमाल के मामले में मुंबई सेंट्रल को पीछे छोड़ दिया।

3. पटना, जयपुर, विशाखापट्टनम में डेटा की खपत काफी ज्यादा रही। जहां हाई-स्पीड ब्रॉडबैंड की उपलब्धता सीमित है।

4. हालांकि, यूजर्स ट्रेनों को पकड़ने में लगे रहते हैं, और अपनी निर्धारित जगह जाते हैं, लेकिन औसत खपत प्रति यूजर नेटवर्क पर 15 गुना ज्यादा डेटा की होती है, जो साधारण तौर पर वे 3जी पैक पर एक दिन में इस्तेमाल करते हैं।

5. जबकि, आम तौर पर फोकस इन्फोटेंमेंट पर रहता है। लेकिन छोटे शहरों में काफी संख्या में यूजर्स नेटवर्क का इस्तेमाल जॉब्स की तलाश और उनके लिए अप्लाई करने में करते हैं।

6. भुवनेश्वर और पुणे में काफी संख्या में स्टूडेंट्स देखे जाते हैं। ये एजुकेशनल कोर्सेस, एक्जाम रिजल्ट्स, सॉफ्टवेयर डाउनलोडिंग और अपने फोन के एप्स को अपग्रेड करते रहते हैं।