अंडमान में फंसे 1400 टूरिस्ट्स, राजनाथ सिंह ने कहा- सभी सुरक्षित

नई दिल्ली ( 8 दिसंबर ): अंडमान के हेवलॉक और नील द्वीपों में तूफानी मौसम की वजह से तकरीबन 1,400 सैलानी फंस गए हैं, जिन्हें निकालने के लिए नौसेना ने चार पोतों को लगाया है। अंडमान में भारी बारिश की वजह से फंसे टूरिस्ट सुरक्षित हैं। लेकिन खराब मौसम की वजह से उन्हें निकलना मुमकिन नहीं हो पा रहा है।

गुरुवार को राजनाथ सिंह ने अंडमान-निकोबार के लेफ्टिनेंट गवर्नर डॉ. जगदीश मुखी से हालात पर चर्चा की है। सिंह ने कहा- सरकार की तरफ से रेस्क्यू की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं, बस मौसम खुलने का इंतजार है।

भारी बारिश, और समुद्री लहरों से यहां बाढ़ के हालात बन गए हैं। सभी टूरिस्ट हैवलॉक और नील आईलैंड्स पर फंसे है, जो राजधानी पोर्ट ब्लेयर से करीब 40 किलोमीटर दूर है। खराब मौसम की वजह से प्लेन और हैलिकॉप्टर सर्विस बंद कर दी गई है। इससे टूरिस्ट्स निकल नहीं पा रहे हैं।

नेवी के एक प्रवक्ता के मुताबिक, टूरिस्ट्स को यहां से निकालने के लिए नेवी के 4 जहाज बित्रा, बंगराम, एयूसी 38 और कुंभीर कल ही राजधानी पोर्ट ब्लेयर पहुंच चुके हैं। लेकिन मौसम इतना ज्यादा खराब है कि ये हैवलॉक तक नहीं पहुंच पा रहे।

मौसम विभाग के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में साइक्लोन की वजह से इन आईलैंड्स पर कभी भी बड़ा तूफान आ सकता है। अंडमान से अफसरों ने मीडिया को बताया है कि वहां तेज हवाओं की वजह से कई पेड़ उखड़ गए हैं। कई जगह बिजली नहीं है। खराब मौसम की वजह से कई इलाकों में मोबाइल और इंटरनेट संपर्क भी टूट गया है।

मौसम विभाग ने पहले ही ‘एल-1 डिजास्टर’ को लेकर अलर्ट जारी किया है। अंडमान में ‘हैवलॉक’ और ‘नील’ आईलैंड्स बेहद खूबसूरत हैं, इसलिए ये टूरिस्ट्स की पहली पसंद हैं। हैवलॉक और नील आईलैंड़स राजधानी पोर्ट ब्लेयर से करीब 40 किलोमीटर दूर हैं।