एक भारतीय ने दुबई में 15 लोगों को फांसी से बचाया

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (23 जून): UAE में एक भारतीय और एक पाकिस्तानी युवक की हत्या के आरोप में फांसी की सजा पाने वाले 15 भारतीयों को बचा लिया गया है। इनमें 14 पंजाब और एक बिहार का युवक शामिल हैं। इन सभी लोगों को सरबत दा भला चैरिटेबल ट्रस्ट के प्रेजीडेंट डॉ. एसपी सिंह ओबराय ने 71 लाख रुपए की राशि ब्लड मनी के तौर पर पीड़ित परिवारों को देकर माफ करवाया है। इनमें से 14 युवक भारत पहुंच चुके हैं जबकि धर्मवीर सिंह नाम के युवक की कागजी कार्रवाई पूरी की जा रही है। दोनों मामले शारजाह और अल-ऐन में दर्ज हुए थे।सरबत दा भला चैरिटेबल ट्रस्ट के अध्यक्ष डॉ. एसपी सिंह ओबराय ने जालंधर में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अब तक कुल 14 लोग अपने देश वापस लौट आए हैं, जबकि एक धर्मवीर सिंह नामक युवक कानूनी प्रक्रिया पूरी होने पर भारत आएगा। फांसी से बचकर इंडिया लौटे जगजीत सिंह, गुरप्रीत सिंह, तरसेम सिंह, सतविंदर सिंह, चंदर शेखर, बलविंदर कुमार, चमकोर सिंह, हरजिंदर सिंह, कुलविंदर सिंह और दलविंदर सिंह शुक्रवार को डॉ. एसपी सिंह ओबराय के साथ प्रेस क्लब आए।दलविंदर सिंह ने बताया उन्हें और उनके साथ रहते 4 युवकों को नवंबर 2011 में पुलिस ने गिरफ्तार किया था। एक साल के भीतर उन्हें जुर्म में मुजरिम मानते हुए सभी पांचों युवकों को फांसी की सजा सुना दी गई। करीब 7 साल जेल में रहने के बाद ये सोचना भी भूल गए थे कि सजा माफ हो सकती है। जगजीत सिंह की बुजुर्ग मां सलविंदर कौर ने कहा कि वह गुरदासपुर के गांव महादेव की रहने वाली हैं। बेटे को साल 2015 में यूएई भेजा था। अब सुकून महसूस कर रहीं हैं कि बेटा उनके पास आ चुका है और सही सलामत हैं।