नोटंबदी के बाद 13 सहकारी बैंकों में 1600 करोड़ जमा हुए पुराने नोट


नई दिल्ली ( 11 जनवरी ): नोटंबदी के बाद देश के 50 बैकों पर कालेधन को बड़े तौर सफेद करने का ईडी को शक है, जिसमें देश के 10 प्रमुख बैंक शामिल हैं। इसके लिए निष्क्रिय और नए खातों का इस्तेमाल किया गया। 13 सहकारी बैकों ने मुंबई ब्रांच एक कामर्शियल बैंक में करीब 1600 करोड़ रुपए जमा किए।


सूरत में एक सहकारी बैंक ने बैंक आॅफ बड़ौदा के साथ अपने अकाउंट में बंद हुए 20 करोड़ रुपए जमाए कराए हैं। ईडी 14 बैकों के करीब 300 करोड़ रुपए के मीन लाॅड्रिंग को लेकर जांच कर रहा है।


ईडी के सूत्रों ने बताया कि आॅडित में पता चला है कि 13 सहकारी बैकों ने आईसीआईआसीआई बैंक के बीकेसी ब्रांच में 16 और 21 नवंबर के बीच 13 सहकारी बैंकों ने बंद हो चुके 1596 करोड़ रुपए जमा किए।

500-1000 रुपए के बड़े नोट बंदे होने के बाद आरबीआई ने सहकारी बैंकों को पुराने नोट जमा करने पर रोक लगा दी थी।