हादसे ने छीने दोनों हाथ, 12 साल की कीर्ति अब पैर से लिख रही है अपना भविष्य

नई दिल्ली (31 अगस्त): राजस्थान के भरतपुर में एक 12 साल की लड़की पूरे समाज की एक मिसाल बन गई हैं। वैर उपखंड के गाँव ललिता मूडिया की रहने वाली कीर्ति अपने बाएं पैर के पंजे से अच्छी हैण्ड राइटिंग लिखती है। वह भी उतनी ही रफ्तार के साथ जितनी किसी और बच्चे की होती है।

​दरअसल साल 2012 में जब कीर्ति फोर्थ क्लास में थी, तब उसका हाथ बिजली के ट्रांसफार्मर से टच हो गया था। इसके बाद जख्मी कीर्ति का इलाज तो हुआ, लेकिन इन्फेक्शन फैलने के कारण उसके दोनों हाथ काटने पड़े। लेकिन दोनों हाथ गंवाने के बाद भी कीर्ति ने हिम्मत नहीं हारी और लगातार कोशिश की बदौलत आज वो पैर के पंजे से तेजी से लिख पाती है।

आज कीर्ति आठवीं क्लास की छात्रा है। पैरों से वो लिखती है। वह पैरों से उतने ही गति से लिख सकती है जितने की वो छात्र जो हाथों से लिखते हैं। पढ़ने में होशियार कीर्ति 69 प्रतिशत नंबर 7वीं क्लास में लाई थी।