अंध विश्वास का दंश: 11 साल की बच्ची ने जीभ काटकर शिव लिंग पर चढ़ाई

नई दिल्ली (20 अप्रैल): छत्तीसगढ़ में अंधविश्वास का एक बेहद दर्दनाक मामला सामने आया है। रायगढ़ जिले में एक 11 वर्षीय आदिवासी बच्ची ने अपनी जीभ काटकर शिवलिंग पर चढ़ा दी। अधिकारियों ने बुधवार को इसकी जानकारी दी है।

'फर्स्ट पोस्ट' की रिपोर्ट के मुताबिक, रायगढ़ जिले के अनुविभागीय दंडाधिकारी प्रकाश सर्वे ने बताया कि जिला मुख्यालय से लगे सागीतराई गांव में चमेली सिदार ने अंधविश्वास के कारण भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए अपनी जीभ काटकर शिवलिंग पर चढ़ा दी। सर्वे ने बताया कि मामला धार्मिक आस्था से जुड़े होने के कारण ग्रामीणों ने बच्ची को इलाज के लिए अस्पताल ले जाने से मना कर दिया है। जिला प्रशासन द्वारा बच्ची के इलाज के लिए मौके पर ही चिकित्सक की व्यवस्था की गई है।

अधिकारी ने बताया कि रायगढ़ जिला मुख्यालय से लगभग तीन किलोमीटर दूर सागीतराई निवासी चमेली भगवान शिव की भक्त है। शनिवार को वह करीब के शिव मंदिर गई और अपनी जीभ काटकर शिवलिंग पर चढ़ा दी। इस दौरान चमेली बेहोश हो गई। देर तक जब वह घर नहीं लौटी, तब उसके परिजनों ने उसकी खोज शुरू की। उन्होंने बताया कि चमेली पिछले पांच दिनों से मंदिर में बैठी है तथा वह आस्था का केंद्र बन गई है। मंदिर में भीड़ लगने के बाद गांव के सरपंच गोपाल ने इसकी जानकारी पुलिस को दे दी है।

बताया जा रहा है, इस शिव मंदिर में इससे पहले भी तीन युवतियों ने अपनी जीभ काटकर शिव लिंग पर चढ़ाई है। बिना उपचार के ठीक होने के कारण ग्रामीण इन घटनाओं को दैवीय चमत्कार मानते रहे हैं।