1000 से ज्यादा मौलवियों ने की मांग, हाफिज सईद पर कारवाई करे UN

नई दिल्ली(9 अगस्त): एक हजार से ज्यादा मुस्लिम मौलवियों और इमामों ने मिलकर 26/11 हमले के मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा के चीफ हाफिज सईद के खिलाफ फतवा जारी किया है और उसे भारत विरोधी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए सजा देने की मांग की है। 

- मुंबई में दारुल उलूम अहले सुन्नत मदरसा में एक प्रस्ताव पास किया गया जिसमें जमात-उद-दावा सहिता पाकिस्तान के कई आतंकवादी संगठनों की भी कड़ी निंदा की गई है। 

- संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के काउंटर टेररिजम कमिटी के प्रमुख अम्र अब्दुललतीफ अबुलअताको यह प्रस्ताव भेजा गया है और साथ ही प्रधानमंत्री कार्यालय को भी इसकी एक कॉपी भेजी गई है। 

- प्रस्ताव को पेश करने वाले मुंबई के NGO इस्लामिक डिफेंस साइबर सेल के चीफ अब्दुर रहमान अंजारिया ने कहा, 'हाफिज सईद और अन्य आतंकी संगठन वैश्विक शांति के लिए खतरा हैं। हाफिज भारत को अपना नंबर 1 दुश्मन बताता है लेकिन वह खुद इस्लाम और मानवता का दुश्मन है।'

- अंजारिया ने साल 2015 में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट के खिलाफ दुनिया के सबसे बड़े फतवे की भी शुरुआत की थी। इस फतवे पर 1000 से ज्यादा भारतीय मुस्लिम मौलवियों और इमामों ने हस्ताक्षर किए थे। हालिया रेजॉलूशन में बताया गया है कि पाकिस्तान में करीब 60 आतंकवादी संगठन ऐक्टिव हैं और यूएन को इसके खिलाफ ऐक्शन लेना चाहिए। 

- पाकिस्तान में जेयूडी पर प्रतिबंध लगा हुआहै लेकिन बीते सोमवार हाफिज सईद ने अपनी 'मिली मुस्लिम लीग' नाम की राजनीतिक पार्टी लॉन्च की है ताकि पाकिस्तानी चुनाव में लड़ सके। मुंबई के साकी नाका मदरसे के हेड अब्दुल मंजर खान अशरफी ने बताया, 'पाकिस्तान परमाणु हथियार से संपन्न देश है और अगर लोग हाफिज सईद जैसे लोगों को वोट देंगे तो यह सिर्फ भारत के लिए बड़ा खतरा नहीं होगा, बल्कि पूरी दुनिया के लिए होगा। सईद मुस्लिमों को कट्टरता की तरफ ले जाने की कोशिश करेगा।'