DCP समेत 10 पुलिस अफसर खुदकुशी के जिम्मेदार, ASI के सुसाइड नोट में खुलासा

फरीदाबाद (2 मई): हरियाणा के फरीदाबाद से एक बेहद अफसोसनाक खबर आई है। पुलिस के एक एएसआई ने जहर पीकर अपनी जान दे दी है। शर्मनाक बात ये है कि इस एएसआई महावीर ने अपने सुसाइड नोट में कम से कम 10 अफसरों पर घूस के लिए परेशान करने का आरोप लगाया है। लेकिन उसके परिवार वालों की एफआईआर तक दर्ज नहीं हो रही।

हरियाणा पुलिस के भ्रष्ट अफसरों की ओर से रिश्वत की मांग पूरी नहीं कर पाने के कारण महावीर का जीना मुश्किल हो गया था। इस आरोप की पुष्टि करता हैं सुसाइड नोट जिसमें हरियाणा पुलिस के एसपी रैंक का एक अधिकारी, डीएसपी रैंक का एक अधिकारी, इंस्पेक्टर रैंक के 3 अधिकारी समेत 5 अन्य पुलिस पदाधिकारियों पर घूस के लिए परेशान करने का आरोप लगाया है।

मरने वाले एएसआई महावीर ने अपने सुसाइड नोट में उन सारी घटनाओं का जिक्र किया है जिसमें मौके मौके पर पुलिस अफसरों ने उसके साथ धोखेबाजी की और फर्जी मुकदमों में फंसाकर नौकरी खा जाने की धमकी दी। महावीर के इस सुसाइड नोट में अफसरों की ओर से मांगे गए और उन्हें दिये गए पैसों का भी पूरा ब्योरा लिख रखा है।  

दरअसल दो दिन पहले फरीदाबाद पुलिस ने आईएमटी थाना इलाके से महावीर का शव बरामद किया था। तब पुलिसवालों को महावीर की खुदकुशी की वजह का पता नहीं था। लेकिन दूसरे दिन जब घर में महावीर का लिखा सुसाइड नोट मिला तो मृतक जवान के परिजनों ने पुलिस में शिकायत की कोशिश की। लेकिन बेहद शर्मनाक बात ये है कि पुलिस ने  एफआईआर भी दर्ज नहीं की। 

मृतक जवान महावीर के घरवालों की मांग है कि सुसाइड लेटर में जितने भी अफसरों का नाम है उनके खिलाफ केस दर्ज किया जाए और फौरन कार्रवाई शुरू की जाए। महावीर के गांववालों और दोस्तों का भी कहना है कि फौज की नौकरी छोड़कर अपने राज्य में सेवा करने की चाहत लेकर आये जवान को करप्ट सिस्टम की चपेट में आकर अपनी जान देनी पड़ी। बहरहाल महावीर के परिवार ने अब पुलिस कमिश्नर से मिलकर शिकायत दर्ज कराने का फैसला किया है। महावीर के घरवालों का कहना है कि अगर पुलिस ने उनके साथ न्याय नहीं किया तो पुलिस कमिश्नर का घेराव भी करेंगे।

मुझे कोई शिकायत नहीं मिली है, हैंडराइटिंग मिलाएंगे। -भूपेन्द्र सिंह, डीसीपी, बल्लभगढ

डीसीपी भूपेंद्र ने नमूना मांगा। कहा गुड़गांव में टॉर्चर हुआ वहां केस दर्ज होगा।- बाइट- दयाचंद, मृतक के रिश्तेदार

सजा दिलवा कर रहूंगी पेंशन की फिक्र नहीं बच्चों की जिंदगी की फिक्र नहीं।- ज्योति, मृतक महावीर की पत्नी