मोदी सरकार में हिंदुस्तान के 60% पैसे पर 1% अमीरों ने किया कब्जा: राहुल गांधी

नई दिल्ली ( 16 दिसंबर ): कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी ने गोवा में एक रैली को संबोधित करते हुए भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला। उन्‍होंने मनरेगा के मुद्दे पर सरकार पर कटाक्ष करते हुए कहा कि मजदूर गड्ढ़े नहीं खोदता है वह देश का निर्माण करता है। उनका यह बयान पीएम मोदी के संसद में दिए गए उस बयान के जवाब में था जिसमें मोदी ने कहा था कि कांग्रेस की सरकार ने लोगों को गड्ढ़े खोदने को मजबूर कर दिया।

राहुल गांधी ने आगे कहा कि पिछले ढाई साल में एक प्रतिशत अमीरों ने देश के 60 प्रतिशत पैसे पर कब्जा कर लिया है। संसद में हंगामे को लेकर उन्‍होंने कहा कि उन्‍हें बोलने नहीं दिया गया। उन्‍होंने नोटबंदी पर मुद्दे पर सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि पीएम ने इस फैसले से गरीबों का अपमान किया है। सारा नकद धन काला धन नहीं होता है। साथ ही सारा काला धन नकदी में नहीं होता है। ईमानदार लोग काला धन नहीं रखते। सरकार नाटक कर रही है। हमारी अर्थव्‍यवस्‍था नकदी की है।

राहुल गांधी ने साल 2014 के लोकसभा चुनावों के दौरान नरेंद्र मोदी के 15 लाख प्रत्‍येक बैंक खाते में आने के वादे का जिक्र करते हुए पूछा कि क्‍या किसी आदमी को 15 लाख रुपये मिले? क्‍या एक भी व्‍यक्ति के खाते में पैसा आया? किसी को भी एक रुपया नहीं मिला। एक प्रतिशत सुपर रिच लोगों ने देश के बैंकों का आठ लाख करोड़ रुपया हड़प लिया है। जब वे लोग पैसा नहीं लौटाते तो केंद्र सरकार उसे नॉन परफॉर्मिंग एसेट कहती है। पिछले ढाई साल में पीएम मोदी ने ऐसे लोगों का 1.10 लाख करोड़ रुपयो माफ कर दिया। उन्‍होंने विजय माल्‍या का 1200 करोड़ रुपये माफ किया।

भ्रष्टाचार को लेकर कांग्रेस के रूख को साफ करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि ”कांग्रेस देश से भ्रष्‍टाचार मिटाना चाहती है। यदि एनडीए सरकार इसके खिलाफ कदम उठाती है तो उनकी पार्टी शत प्रतिशत सहयोग देगी।” नोटबंदी पर निशाना साधते हुए उन्‍होंने कहा, “नरेंद्र मोदी जी ने कहा एक नया स्‍कीम निकालते हैं मार्केटिंग का, ”भ्रष्‍टाचार और काले धन पर सर्जिकल स्‍ट्राइक। ये सर्जिकल स्‍ट्राइक नहीं थी ये हिंदुस्‍तान के ईमानदार लोगों पर फायर बॉम्बिंग थी। मोदीजी आठ नवंबर को खड़े होते हैं जैसे ओबामाजी खड़े होते हैं और कहा- जो जेब में पैसा है हिंदुस्‍तान के गरीब लोगों का वो अब कागज हो गए हैं। नोटबंदी का मतलब है गरीबों से पैसा खींचो, अमीरो को पैसा सींचो। मोदीजी की कैशलेस इकॉनॉमी में 5-6 प्रतिशत पैसा जादुई रूप से हर ट्रांजेक्‍शन के बाद गायब हो जाएगा।