3 साल में निजी कंपनियों ने सरकार को लगाया 1लाख 52 हजार करोड़ का चूना

नई दिल्ली (22 अगस्त): भारत में मल्टिनैशनल फर्म्स सहित कई सारी कंपनियों ने बीते 3 साल 3 महीनों में 1 लाख 52 हजार करोड़ रुपए की टैक्स चोरी की है। वित्त मंत्रालय के द्वारा जारी इस सूचना में अप्रैल 2014 से जून 2017 तक कंपनियों की गुप्त राशि का जिक्र है। यह राशि इतनी है कि बेंगलुरू शहर को 19 सालों तक या फिर मुंबई को 7 सालों तक आराम से चलाया जा सकता है। 

बीते 3 साल 3 महीनों में 1.52 लाख करोड़ रुपए में से 76 हजार 239.22 करोड़ रुपए डायरेक्ट टैक्स के फॉर्म में है। वहीं बाकी बची 76 हजार 535.42 करोड़ की राशि इनडायरेक्ट टैक्स के फॉर्म में है, इसमें सर्विस टैक्स (47,188.95 करोड़), कस्टम (10,392.19 करोड़) और सेंट्रल एक्साइज (18,954.28 करोड़) भी शामिल है।