गौतम गंभीर ने फिर दिखाई दरियादिली, शहीद जवान के बेटे का उठाएंगे खर्च

नई दिल्ली ( 3 जून ): भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर अपनी दरियादिली के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने एक बार फिर से अपनी दरियादिली दिखाई है। गंभीर की इस कदम की तारीफ हो रही है। उन्होंने एक और शहीद के बेटे की जिम्मेदारी लेने का फैसला किया है। असम में शहीद सीआरपीएफ के जवान दिवाकर दास के 5 वर्षीय बेटे अभिरुन दास को अब शिक्षा सहित मूलभूत सुविधाएं आसानी से मिल सकेंगी। इस तरह भारतीय क्रिकेटर ने अपने गौतम गंभीर फाउंडेशन (GGF) के माध्यम सेएक और सराहनीय काम किया है।उल्लेखनीय है कि अभिरुन दास की उम्र 5 साल है। उनके पिता दिवाकर दास असम के कामरूप जिले में पलाशबाडी में रहते थे। वह सीआरपीएफ (CRPF) के जवान थे। पिछले साल एक हमले में वह शहीद हो गए थे। इससे पहले गंभीर ने जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में शहीद जवान अब्दुल राशिद की बेटी की जिम्मेदारी भी ली थी।इससे अलावा गंभीर सुकमा में नक्सली हमले में शहीद हुए सीआरपीएफ जवानों के परिवारों की मदद के लिए आगे आए। उन्होंने 2017 में शहीद 25 जवानों के बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाने का ऐलान किया था। उन्होंने यह फैसला न्यूज पेपर में खबर पढ़ने के बाद लिया था।उन्होंने उस वक्त कहा था- गौतम गंभीर फाउंडेशन इन शहीदों के बच्चों की पूरी पढ़ाई की जिम्मेदारी लेगा। मेरी टीम ने इस पर काम शुरू कर दिया है और जल्द ही मैं इस पर हुई प्रगति से अवगत कराऊंगा।