नोटबंदी: मिलेगी बड़ी खुशखबरी, कैश निकालने की लिमिट होगी खत्म!

नई दिल्ली ( 9 दिसंबर ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की आधी रात से 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों पर बैन लगा दिया था। साथ ही प्रधानमंत्री ने देश की जनता से 50 दिन का समय मांगा। उन्होंने गोवा में 14 नवंबर को कहा था, ‘मैं आपसे वादा करता हूं, मैं आपको आपके सपनों का भारत दूंगा। अगर किसी को परेशानी होती है तो मुझे दर्द होता है। मैं उनकी समस्याएं समझता हूं, लेकिन यह दिक्कत सिर्फ 50 दिनों तक रहेगी।’

प्रधानमंत्री द्वारा मांगी गई समय सीमा 30 दिसंबर को खत्म हो रही है। साथ ही बैंकों में 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोट जमा कराने की डेडलाइन 30 दिसंबर है, लेकिन हर कोई अब यह सवाल पूछ रहा है कि क्या उसके बाद एटीएम और बैंकों से पैसा निकालने पर लगी लिमिट खत्म हो जाएगी?

खबरों के मुताबिक बैंकरों का कहना है कि शायद 1 जनवरी से पाबंदी खत्म हो जाए। अधिकतर बैंकरों ने कहा कि पैसा निकालने की छूट बढ़ाई जा सकती है, लेकिन मुंबई, दिल्ली और देश के दूसरे इलाकों में लंबी लाइनों में लगने वाली पब्लिक को राहत तभी मिलेगी, जब करंसी की सप्लाई बढ़ेगी, वह भी खासतौर पर 500 के नए नोटों की।

कई बैंकरों का कहना है कि 1 जनवरी से पैसे निकालने पर लिमिट खत्म होने की पूरी संभावना है। एक सीनियर बैंक अधिकारी ने बताया, ‘पिछले कुछ दिनों में नोट की सप्लाई में सुधार नहीं हुआ है। 2,000 के नोटों की कमी नहीं है, लेकिन 500 के नए नोट और आने चाहिए।’

अधिकारी ने बताया कि बैंकों के कैश काउंटर और एटीएम से पैसा निकालने की पाबंदी नए साल में भी जारी रह सकती है। उन्होंने कहा कि जितनी तेजी से कैश खत्म हो रहा है, उस रफ्तार से नोट छापे नहीं जा रहे हैं।

आरबीआई पॉलिसी के ऐलान के बाद बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कहा गया था कि पुरानी करंसी में 11.5 लाख करोड़ रुपये बैंकों में जमा कराए जा चुके हैं, लेकिन इनके बदले सिर्फ 3.8 लाख करोड़ के नए नोट सिस्टम में डाले गए हैं। बाकी के 7.7 लाख करोड़ रुपये डालने में एक महीने से अधिक समय लग सकता है, अगर हम मान लें कि बैंकों में जो पैसा आया है उसे लोग एक साथ निकाल लें तो।