हॉकी टीम को वीजा ना मिलने से पाकिस्तान नाराज, तोड़ सकता है खेल रिश्ते

नई दिल्ली(9 दिसंबर): पाकिस्तान के स्पोर्ट्स मिनिस्टर रियाज पीरजादा ने कहा है कि उनका मुल्क भारत से हर तरह के खेल रिश्ते खत्म करने पर विचार कर रहा है। रिजाज ने कहा कि इस बारे में संबंधित मिनिस्ट्रीज से सलाह ली जा रही है।

- उन्होंने कहा- हम ये तय कर देना चाहते हैं कि पाकिस्तान का कोई प्लेयर या टीम भारतीय जमीन पर ना खेले।

- बता दें कि लखनऊ में गुरुवार से शुरू हुई जूनियर वर्ल्ड कप हॉकी चैंपियनशिप के लिए वीजा ना मिलने से पाकिस्तान काफी नाराज है।

- गुरुवार को मीडिया से बातचीत में रियाज ने कहा- पाकिस्तान की जूनियर हॉकी टीम से इंडियन हाई कमीशन और इंटरनेशनल हॉकी फेडरेशन ने जिस तरह का बर्ताव किया, उसके बाद से हम भारत में खेलने पर बैन लगाने को मजबूर हुए हैं।

- रियाज ने आरोप लगाया कि इंटरनेशनल हॉकी फेडरेशन भी भारत के साथ है क्योंकि इसका प्रेसिडेंट भी भारतीय है।

- बता दें कि जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप से पाकिस्तान के बाहर होने के बाद मलेशिया को इसमें जगह दी गई है।

- पीरजादा ने कहा- भारत ने हमारी जूनियर हॉकी टीम के साथ जो सलूक किया उसे हम किसी भी हालत में कबूल नहीं कर सकते। इससे हमें नुकसान हुआ है।

- पाकिस्तान की स्पोर्ट्स मिनिस्ट्री भारत में खेल पर बैन लगाने के लिए पाकिस्तान स्पोर्ट्स बोर्ड, ओलिंपिक एसोसिएशन और बाकी स्पोर्ट्स फैकल्टी से बातचीत कर रही है।

- वीजा ना मिलने पर पाकिस्तान हॉकी फेडरेशन (पीएचएफ) ने कहा था- भारत ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों को लास्ट डेट से पहले वीजा नहीं दिया। जिसकी वजह से क्वालीफाई करने के बाद भी पाकिस्तान की जूनियर हॉकी टीम जूनियर वर्ल्ड कप में हिस्सा नहीं ले पाएगी। पकिस्तान ने शिविर लगाकर खिलाडियों को तैयारी कराई, लेकिन भारत द्वारा आखरी मौके तक कोई जानकारी नहीं दी गई।