सऊदी अरब के खिलाफ कर रहे थे जासूसी, मिली मौत

रियाद (8 दिसंबर): सऊदी अरब ने ईरान के लिए जासूसी करने के दोषी 15 लोगों को मौत की सजा सुनाई। सभी दोषी जासूस 32 लोगों के एक नेटवर्क का हिस्सा बताए गए हैं। इनमें दो को बरी कर दिया गया और 15 अन्य को छह महीने से 25 साल तक के कारावास की सजा सुनाई गई है।

सजा पाने वालों में 30 सऊदी अरब के नागरिक हैं जबकि ईरान और अफगानिस्तान के एक-एक नागरिक शामिल हैं। यह सैन्य और कूटनीतिक क्षेत्रों में काम करते थे। इन्हें 2013 में हिरासत में लिया गया और फरवरी में इन पर मुकदमा शुरू हुआ।

अदालत ने इन पर ईरान के खुफिया विभाग के लिए जासूसी करने और सऊदी अरब से संबंधित संवेदनशील सैन्य जानकारी प्रदान करने के लिए एक समूह के गठन का आरोप लगाया था। इस नेटवर्क के कुछ सदस्यों ने कथित तौर पर ईरानी खुफिया एजेंसी के साथ समन्वय कर ईरान के सर्वोच्च नेता अली खामनेई से मुलाकात की थी।