जर्नादन का पैसा व्हाइट कराने वाला अधिकारी लड़ना चाहता था बीजेपी से चुनाव

रमन कुमार, नई दिल्ली (7 दिसंबर): जर्नादन रेड्डी पर 100 करोड़ की ब्लैकमनी को व्हाइट कराने का आरोप लगाकर खुदकुशी करने वाले ड्राइवर के सुसाइड नोट से एक चौंकाने वाली खबर सामने आई है। कर्नाटक के एक सरकारी अधिकारी भीमा नायक के ड्राइवर रमेश ने जहर खाकर जान दे दी है। तभी पुलिस को ड्राइवर रमेश गौड़ा का सुसाइड लेटर हाथ लगा और इससे खुदकुशी के इस मामले ने नया मोड़ ले लिया।

सुसाइड नोट में ड्राइवर ने लिखा है कि जी जनार्दन रेड्डी बीजेपी सांसद बी श्रीरामुलु के साथ हाल के दिनों में बेंगलुरु के एक होटल में भीमा नायक से कई बार मिले थे। भीमा नायक 2018 का विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते थे और टिकट के लिए वो रेड्डी की मदद चाहते थे। भीमा नायक बेंगलुरू में विशेष भूमि अधिग्रहण अधिकारी के पद पर काम कर चुके हैं। इस खुलासे से कर्नाटक से लेकर दिल्ली तक सियासी पारा चढ़ गया है।

रमेश ने अपने सुसाइड लेटर में लिखा है कि कर्नाटक के माइनिंग किंग जी जनार्दन रेड्डी और अफसर भीमा नायक मुझे प्रताड़ित कर रहे थे, क्योंकि मुझे ये बात पता थी कि जनार्दन रेड्डी ने 100 करोड़ के काले धन को कैसे सफेद करवाया था।

ड्राइवर रमेश गौड़ा ने अपने सुसाइड लेटर में आगे लिखा है कि जी जनार्दन रेड्डी की 100 करोड़ की ब्लैकमनी को सफेद करवाने में मदद के बदले अफसर भीमा नायक को 20 फीसदी कमीशन मिला था। जी जनार्दन रेड्डी पिछले दिनों खासे चर्चा में रहे हैं। 8 नवंबर को नोटबंदी लागू होने के बाद उन्होंने अपनी बेटी की शाही शादी की थी। 5 दिनों तक चले समारोह में 500 करोड़ रुपए खर्च करने की बात सामने आई थी। ये शाही शादी देश भर में सुर्खियां बनी थी।

इस खर्च को लेकर आयकर विभाग ने भी रेड्डी से शादी पर हुए करोड़ों के खर्च का हिसाब मांगा है। उनके संबंधियों पर भी आयकर विभाग की नजर है। इस बीच कर्नाटक प्रशासनिक सेवा के अधिकारी भीमा नायक के ड्राइवर के सुसाइड ने रेड्डी को फिर विवादों में ला खड़ा किया है।

उधर बेंगलुरु पुलिस ने अधिकारी भीमा नाइक और उनके दूसरे ड्राइवर मोहम्मद के खिलाफ मामला दर्ज किया है और सुसाइड के लिए उकसाने के मामले में आरोपी बनाया है।