सऊदी अरब: कबूतरबाजों के चंगुल में फंसी महिला, शेख ने ऐसे किया शोषण

तरनतारन (7 दिसंबर): नौकरी का झांसा देकर धोखे से खाड़ी देशों में लोगों को भाजने वाले कबूतरबाजों का गोरखधंधा बदस्तूर जारी है। पंजाब के तरनतारन की एक महिला इसी तरह के एक कबूतरबाज के झांसे में आ गई। यहां के गांव भोजियां की रहने वाली एक महिला को ट्रैवल एजेंट ने धोखे से दुबई की जगह सऊदी अरब भेज दिया। वहां शेख ने करीब दो महीने तक घर में नजरबंद रखा और घरेलू काम करवाया। मेहनताना मांगने पर पीटा जाता था। इतना ही नहीं चार महीने जेल में भी कैद रही। करीब छह महीने जलालत सहने के बाद दमाम में रहने वाले एनआरआई सोशल वर्कर रणजीत सिंह की मदद से चंगुल से छूटकर भारत लौटी। 

पीड़ित महिला राजी के मुताबिक गरीबी के चलते वह और उसका पति निशान मसीह पैसा कमाना चाहते थे। इसी दौरान उनकी मुलाकात अमृतसर की एक महिला ट्रेवल एजेंट से हो गई। इसके बाद महिला ट्रेवल एजेंट ने मुंबई में रहते ट्रेवल एजेंट से दिल्ली में मुलाकात करवाई। इसके बाद महिला को दुबई में घरेलू कामकाज करने के लिए बात तय हो गई। राजी ने बताया कि ट्रैवल एजेंटों ने उससे 60 हजार रुपए ले लिए। ट्रेवल एजेंटों ने उसे दुबई की जगह सऊदी अरब भेज दिया।

जहां शेख ने उसे अपने घर में बंधक बनाकर रखा और घर के काम कराए और पैसे मांगने पर उसके साथ मारपीट की जाती थी। इसके बाद शेख ने उसे चार लाख रुपए में किसी दूसरे शेख को भी बेचने की कोशिश की।  इसके बाद शेख ने उस पर चोरी का इल्जाम लगाकर उसे जेल भेज दिया। राजी को चार महीने तक जेल में रखा गया।

किसी तरह महिला ने पूरा मामला चंडीगढ़ में रहने वाले अपने भाई इंदरजीत सिंह को फोन पर बताया। मामले की जानकारी मिलने के बाद सोशल वर्कर एनआरआई रणजीत सिंह ने वहां रह रहे पंजाबियों की मदद से महिला जेल से रिहा करवाया और उसे भारत भेजने का इंतजाम किया।