मनोहर पर्रिकर ने ममता को लिखी चिट्ठी, कहा- सेना को राजनीति में घसीटना ठीक नहीं

नई दिल्ली(9 दिसंबर): पश्चिम बंगाल में रुटीन एक्सरसाइज के लिए सेना की तैनाती पर सियासत थमने का नाम नहीं ले रही।  पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के आरोपों पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने पलटवार किया है। पर्रिकर ने ममता बनर्जी को चिट्ठी लिखकर कहा है कि आपने ने जो सवाल उठाए थे आर्मी डिप्लॉयमेंट को लेकर वह ठीक नहीं है। आर्मी को राजनीति में नहीं खींचना चाहिए यह एक रूटीन एक्सरसाइज थी।

- पर्रिकर ने चिट्ठी में लिखा है- मुझे इस बात का दुख है कि आर्मी को राजनीति में जिस तरह से खींचा गया है ममता बनर्जी के द्वारा वह ठीक नहीं था।

- गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने राज्य में टोल नाको पर और सचिवालय के बाहर सेना की तैनाती को लेकर आरोप लगाए थे और यहां तक कहा था कि मोदी सरकार राज्य में उनका तख्ता पलटना चाहती है। ममता बनर्जी ने इसके खिलाफ धरना भी दिया था।

- हालांकि, बाद में सेना ने तमाम दस्तावेजों के हवाले से साबित किया कि ये सेना की एक रुटीन एक्सरसाइज थी और आपात स्थिति के लिए समय-समय पर भारी वाहनों की सैन्य साजोसामान ले जाने की क्षमता का परीक्षण किया जाता रहा है। सेना ने दस्तावेज दिखाकर कहा था कि पश्चिम बंगाल पुलिस को इस बारे में पहले से सूचना दी गई थी और आरोप बेबुनियाद हैं।

- पर्रिकर की चिट्ठी के जवाब में टीएमसी के सांसद डेरेक ओ ब्रायन का कहना है कि रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने ममता बनर्जी को जो चिट्ठी लिखी है। अभी तक उन तक पहुंची भी नहीं है। उन्होंने मीडिया में इसको लीक कर दिया है तो राजनीति कौन कर रहा है। रक्षा मंत्री को इस तरह से नहीं करना चाहिए था। जैसे ही कोलकाता ममता बनर्जी के पास चिट्ठी पहुंचेगी। इसका स्ट्रांग जवाब दिया जाएगा।

- बीजेपी ने ममता बनर्जी पर आरोप लगाया था कि वे हर मुद्दे को तूल देकर चर्चा में बने रहना चाहती हैं। ममता बनर्जी ने केंद्र पर नोटबंदी के खिलाफ अपने अभियान के बदले में निशाना बनाने का आरोप लगाया था।