तमिलनाडु में बढ़ी शशिकला की हैसियत, मंत्री-मुख्यमंत्री सभी ने हाजिरी लगाई

नई दिल्ली, (9 दिसंबर): तमिलनाडु की कद्दावर नेता जे. जयललिता अब इस दुनिया में नहीं रहीं, लेकिन ऐसा लगता है कि उनका पोस गार्डन स्थित आवास राजनीतिक शक्ति का केंद्र बना रहेगा। उनकी पार्टी एआईएडीएमके और राज्य प्रशासन के लिए सत्ता केंद्र अभी भी उनका आवास है। गुरुवार को राज्य के नए सीएम पनीरसेल्वम समेत कुछ और मंत्री अम्मा के आवास 'वेद निलयम' पहुंचे। वहां उन्होंने जयललिता की करीबी दोस्त शशिकला से मुलाकात की।

पार्टी पर आने वाले दिनों में शशिकला के प्रभुत्व को देखते हुए माना जा रहा है कि राज्य के बड़े मंत्रियों की मुलाकात बहुत महत्वपूर्ण है। जयललिता के बाद पार्टी पर शशिकला के नियंत्रण की चर्चा है। जयललिता पार्टी की जनरल सेक्रेटरी थीं और उनके निधन के बाद यह पद खाली है। पार्टी काउंसिल आने वाले समय में सर्वसहमति से जनरल सेक्रेटरी का चयन कर सकती है। हालांकि, राज्य के मंत्रियों और सीएम इस मुलाकात के बाद अपने चैंबर वापस नहीं लौटे। माना जा रहा है कि शुक्रवार को सभी मंत्री काम पर लौट जाएंगे।

दिलचस्प बात यह है कि गुरुवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता के. ए. सेनगोट्टियां भी शशिकला से मुलाकात करने पहुंचे। 2012 में जयललिता ने शशिकला से विवाद के बाद उन्हें कैबिनेट से बाहर का रास्ता दिखा दिया था। हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को पार्टी के एक सूत्र ने बताया, 'बुधवार और गुरुवार को उन्हें पोस गार्डन में देखा गया।' माना जा रहा है कि पार्टी की कमान शशिकला के संभालने की संभावनाओं को देखते हुए सभी दिग्गज नेता अपने समीकरण बनाने की जुगत में लगे हैं।

शशिकला से विवाद के बाद उन्हें फिर से पार्टी काउंसिल में शामिल कर लिया गया था। वहीं, जयललिता ने शशिकला के पति एम नटराजन और परिवार के अन्य सदस्यों को पार्टी से बाहर ही रखा था। हालांकि, गुरुवार नटराजन को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बातचीत करते देखा गया था।