पंजाब में 12 दिसंबर से चलेगी पानी वाली बस

भठिंडा (11 दिसंबर): 12 दिसंबर को पंजाब के डिप्टी सीएम इस बस सर्विस की अधिकारिक शुरुआत करेंगे। माना ये भी जा रहा है कि भठिंडा की रैली में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के सामने किए पंजाब के डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल के लिए उनका ये बयान गले की हड्डी बन गया था और राजनीतिक विरोधी और सोशल मीडिया पर उनका मजाक बनाया जा रहा था, जिसके बाद सुखबीर सिंह बादल ने अपनी कही बात को पूरा कर के दिखाने की ठानी।

हालांकि सुखबीर बादल का दावा था कि पानी में बसें चलाने वाला पंजाब देश का पहला राज्य होगा, लेकिन पंजाब से पहले ये बसें केरल और गोवा में चल चुकी है। फिर भी पंजाब सरकार के इस प्रोजेक्ट को चुनाव से पहले शुरु करने से सुखबीर बादल को उम्मीद है कि इसका उन्हें चुनावों में बहुत ही फायदा मिलेगा।

पंजाब के डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल ने करीब दो साल पहले भठिंडा में राज्य में हुई डेवेलेपमेंट के बारे में बोलते हुए ऐलान किया था कि अब वो दिन दूर नहीं जब पंजाब में पानी में बसें चलेगी जैसा कि विदेशों में होता है। सुखबीर बादल के इस ऐलान के साथ ही विपक्ष के साथ-साथ सोशल मीडिया पर भी उनकी खिल्ली उड़ाई गई और फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल साइट्स पर उन्हें बहुत ट्रॉल किया गया। जिसके बाद ये बस पंजाब में लाकर चलाना सरकार और खुद पंजाब के डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल के लिए बड़ी चुनौती बन गया था।

फिलहाल पंजाब सरकार 12 दिसंबर से ये पानी में चलने वाली बसें पानी में उतारने की तैयारी कर रही है। हरीकेपत्तन झील पर इस बस को पानी में उतारने के लिये करोड़ों की लागत से एक खास ट्रैक भी बनाया गया है।

- विशेष तौर पर पानी पर ही चलने वाली इन बसों को एम्फीबियस बसें कहा जाता है।

- जमीन पर चलने के साथ ही पानी में भी उतर सकती है

- किसी छोटी किश्ती या क्रूज की ही तरह पानी पर चल सकती है।

- दो करोड़ की ये बस सड़क पर दौड़ने के साथ पानी पर भी तैरेगी।

- फिलहाल इस बस को अमृतसर से हरीकेपत्तन नाम के टूरिस्ट स्थल तक चलाया जाएगा।

- हरीकेरत्तन अमृतसर के नजदीक एक टूरिस्ट स्थल है जहां पर एक झील है जिसके पानी पर इस बस को चलाने की तैयारी है।

- दो करोड़ बस पर और आठ करोड़ हरीकेपत्तन पर इस बस के लिये ट्रैक बनाने और इस बस प्रोजेक्ट के अन्य खर्चों पर यानि कुल मिलाकर दस करोड़ पंजाब सरकार ने इस प्रोजेक्ट पर खर्च किए है।

- अमृतसर रेलवे स्टेशन से हरीकेपत्तन आने और सैर करने के लिये इस बस का किराया 2000 रुपये प्रति व्यक्ति रखा गया है।

- जबकि हरीकेपत्तन में झील की सैर करने के लिये 800 रुपये प्रति व्यक्ति खर्च करने होंगे।

वीडियो:

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=lvK2pvJ3JbA[/embed]