पीएम मोदी ने मां के साथ गुजारे 20 मिनट

नई दिल्ली ( 10 दिसंबर ): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने एक दिन के गुजरात दौरे के दौरान उन्होंने शनिवार को अपनी मां हीराबा से भी मुलाकात की। इस दौरान उनके साथ पूरा काफिला नहीं था, केवल दो गाड़ियां उनके साथ थीं। हीराबा पीएम मोदी के छोटे भाई पंकज मोदी के साथ रायसण गांव में रहती हैं। यह गांधीनगर से 7 किलोमीटर दूर है। वह यहां 20 मिनट रुके।

पीएम मोदी यहां बनासकांठा जिले के डीसा में एक डेयरी प्लांट का उद्घाटन और रैली को संबोधित करने पहुंचे थे। रैली से पहले उन्होंने प्रोटोकॉल तोड़ा और बिना काफिले के सिर्फ दो गाड़ियों के साथ मां का आर्शीवाद लेने पहुंचे।

बीजेपी के एक नेता ने कहा कि पीएम मोदी को पार्टी की एक मीटिंग में हिस्सा लेना था। इसके अलावा एक रैली में भी उनका भाषण था। लेकिन इसके पहले उन्होंने वक्त निकाला और मां से मुलाकात करने पहुंचे। हीराबा की उम्र 97 साल है।

-

बता दें कि 17 सितंबर को अपने 66वें बर्थडे पर भी मां से मुलाकात के लिए गांधीनगर आए थे।

रैली में ये बोले पीएम मोदी

पीएम गुजरात बीजेपी के हेडक्वार्टर श्रीकमलम गए। यहां उन्होंने पार्टी वर्कर्स के साथ मीटिंग की। इसके पहले डीसा की रैली में मोदी ने कहा, “देश में चर्चा चल रही है कि नोटों का क्या होगा? 8 तारीख के पहले 100, 50, 20 के नोट की कीमत को कोई पूछता नहीं था।'' पीएम ने कहा कि ''जैसे 8 तारीख के पहले बड़े-बड़ों की पूछ होती थी, अब बड़े नहीं, छोटे नोट और छोटे लोगों की ताकत बढ़ी है।''

उन्होने कहा कि ''कच्चा, पक्का मकान का खेल बहुत हो गया। जैसे बड़े नहीं, छोटे नोटों की ताकत बढ़ी है, वैसे ही बड़े नहीं, छोटे लोगों की कीमत बढ़ाने के लिए नोटबंदी का फैसला किया।''

पीएम ने कहा कि ''आज ईमानदार लोगों को भड़काया जा रहा है। कुछ लोग आज स्पीच देते हैं, मोदी जी ने इतना बड़ा निर्णय किया। हमारे जीते जी कोई लाभ नहीं मिलेगा। मरने के बाद मिलेगा।'' साथ ही पीएम ने कहा कि ''हमारे देश में एक ऋषि थे। वे कहते थे कि मौत के बाद क्या होने वाला है, कौन जानता है! जो करना है, अभी कर लो। आनंद से जी लो।''

''इसे कभी हिंदुस्तान ने स्वीकार नहीं किया। मेरा देश स्वार्थी लोगों का नहीं है।''