दिल्ली के प्रोफेसर ने पेश की मानवता की मिसाल, केरल के सफाईकर्मी को देंगे किडनी

नई दिल्ली ( 11 दिसंबर ): देश की राजधानी दिल्ली में रहने वाले एक प्रोफेसर मानवता की बड़ी मिशाल पेश की है। वह केरल के एक सफाईकर्मी को अपनी किडनी देंगे। दिल्ली स्थित जामिया हमदर्द यूनिवर्सिटी के मैनेजमेंट स्टडीज के प्रोफेसर सखी जॉन 21 दिसंबर को केरल के त्रिशूर जिले के पीची में रहने वाले शाजू पॉल को अपनी किडनी देंगे। वन विभाग की जमीन पर बनी एक छोटी सी झोपड़ी में शाजू पॉल रहते हैं। उनका किडनी ट्रांसप्लांट कोच्चि के लेकशोर हॉस्पिटल में होगा। इन दोनों की मुलाकात आज से सिर्फ तीन महीने पहले हुई है। और इतने कम दिन में ऐसा मानवीय रिश्ता लोगों के लिए एक बड़ा मिसाल है।

शाजू पॉल प्रोफेसर जॉन से कहते हैं, “मेरी अंधेरी जिंदगी में आप प्रकाश बनकर आए हैं।” इसके जवाब में प्रोफेसर जॉन कहते हैं, “हमलोग भाई हैं। हम मानवता के धर्म का पालन करने वाले लोग हैं।”

जुलाई में डॉक्टरों ने पॉल को जवाब दे दिया था। इसके बाद उनके गांव के लोगों ने एक समिति बनाकर पॉल की किडनी ट्रांसप्लांटेशन के लिए 22 लाख रुपये इकट्ठा किए। एक पादरी की पहल पर एक किडनी डोनर सीधे मरीज के दरवाजे पर पहुंच गया। ये किडनी डोनर प्रोफेसर जॉन हैं। 45 साल के प्रोफेसर जॉन ने अपने परिवार की मर्जी के खिलाफ जाकर पॉल को किडनी दान करने का फैसला किया है। इतना ही नहीं इस दान के लिए उन्हें तीन महीने में केरल का चक्कर तीन बार लगाना पड़ा है और कुल 375 मेडिकल टेस्ट कराने पड़े हैं।