इस मंदिर में चोरी करने से पूरी होती है मनोकामना

नई दिल्ली ( 11 दिसंबर ): हम बचपन से ही सुनते आ रहे हैं कि मंदिर में पूजा करने और भगवान के दर्शन से लोगों की मन्नतें पूरी होती हैं और चोरी नहीं करनी चाहिए चोरी करना पाप है। लेकिन देवभूमि उत्तराखंड में एक ऐसा मंदिर है जहां चोरी करने पर हर मुराद पूरी हो जाती है।

यह मंदिर चूड़ामणि देवी मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह एक सिद्धपीठ है। उत्तराखंड में यह मंदिर रुड़की के चुड़ियाला गांव में स्थित है। यहां अमूमन निःसंतान दंपत्ति आते हैं। वह इस मंदिर से बिना कुछ बताए मां चूड़ामणि देवी के चरणों से लकड़ी का गुड्डा ले जाते हैं। इस तरह उनकी संतान के माता-पिता बनने की मन्नत जब पूरी हो जाती है, तो वह मंदिर में पूजन, दान करते हैं।

इस मंदिर का निर्माण 1805 में एक रियासत के राजा ने करवाया था। किंवदंती है कि एक बार राजा वन में शिकार करने निकले। तब उन्हें माता की पिंडी के दर्शन हुए। राजा निःसंतान थे। वह मां की पिंडी को ले गए। और उन्होंने संतान प्राप्ति की मन्नत मांगते हुए पूजा की। जल्द ही उनकी मनोकामना पूरी हुई।