Thursday, July 9, 2020

अब दुनिया के सामने आयेगी चीन की असलियत, अमेरिका ने चली ऐसी चाल, देखें रिपोर्ट

चीन की असलियत अब दुनिया के सामने आ सकती है। अमेरिका ने अपना गोपनीय मिशन अंतरिक्ष में भेजा है। वैसे तो अमेरिका का यह मिशन छठी बार अंतरिक्ष में गया है। लेकिन इस बार का मकसद कुछ खास है।

नई दिल्ली। अमेरिकी एयरफोर्स ने एक ऐसी चाल चली है जिससे चीन असलियत दुनिया के सामने आ जायेगी। अपनी पोल पट्टी खुल जाने के डर से चीन भीतर ही भीतर काफी डरा हुआ है। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के हमलावर होने के बावजूद चीनी राष्ट्रपति शीजिनपिंग ने न केवल चुप्पी साधी हुई है बल्कि पिछले दरवाजे से अमेरिका के साथ डील करने की कोशिश भी कर रहे हैं।

बहरहाल, अमेरिका  ने अंतरिक्ष में  जिस एक्स-37बी नाम के ड्रोन मिशन को अंतरिक्ष में भेजा है। अंतरिक्ष में अमेरिका का यह गोपनीय मिशन छठी बार पृथ्वी की कक्षा में घूमने गया है। कोरोना काल में अमेरिका के इस तरह के खुफिया अभियान से चीन की धुकधुकी बढ़ गयी है। चीन को ऐसा लगता है कि अमेरिका ने उसकी जासूसी करने के लिए यह यान अंतरिक्ष में भेजा है। ध्यान रहे, अमेरिका आरोप लगाता रहा है कि चीन ने उसकी स्पेस टेक्नोलॉजी को चुराया है। उसी के आधार पर चीन अपना स्पेस प्रोग्राम डेवलप कर रहा है। अभी हाल ही में चीन ने एक अपना एक स्पेस प्लेन भेजा था। जिसको लेकर भी अमेरिका ने टिप्पणी की थी। बहरहाल, इससे  पहले  2011 में अमेरिका ने एक मानवयुक्त अंतरिक्षयान भेजा था और यह ड्रोन उसी के छोटे रूप जैसा दिखता है। एयरफोर्स ने बताया है कि इसे फ्लोरिडा के केप कार्निवल से रविवार को भेजा गया। यह कई महीनों तक पृथ्वी की कक्षा में रह कर अलग अलग तरह के प्रयोग करेगा।

रविवार को अमेरिकी समय के मुताबिक सुबह 9 बज कर 14 मिनट पर विशाल एटलस वी लॉन्च व्हीकल ने ड्रोन को साथ लेकर अंतरिक्ष के लिए उड़ान भरी। अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने लॉन्च के कुछ ही देर बाद ट्वीट कर कहा, “एक्स-37बी रियूजेबल स्पेसक्राफ्ट के छठे अभियान के लिए बधाई।” एक्स-37बी 29 फीट लंबा है और इसके डैनों का विस्तार करीब 15 फीट तक है।

इस ड्रोन को ऑर्बिटल टेस्ट व्हीकल भी कहा जाता है। यह ड्रोन एक छोटे रिसर्च सेटेलाइट फाल्कन सैट 8 को भी वहां तैनात करेगा ताकि कुछ और प्रयोग किए जा सकें। अमेरिकी एयर फोर्स के प्रभारी मंत्री बारबरा बैरेट ने इस महीने की शुरुआत में अब तक गोपनीय रहे मिशन के बारे में कुछ जानकारी दी थी। अमेरिका ने हाल ही में यूएस स्पेस फोर्स भी बनाया है। बैरेट इसकी भी प्रमुख हैं। उनका कहना है, “यह एक्स 37 बी पिछले अभियानों की तुलना में ज्यादा प्रयोग करेगा।” इन प्रयोगों में बीजों और दूसरे मैटीरियल पर विकिरण के असर और सौर ऊर्जा को रेडियो फ्रीक्वेंसी माइक्रोवेव ऊर्जा में बदलने जैसे काम शामिल हैं। इस ऊर्जा को धरती पर भी पहुंचाया जा सकता है।

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय ने ड्रोन की तस्वीरें जारी की हैं लेकिन अब तक इस मिशन और इसकी क्षमता के बारे में बहुत कम जानकारी दी गई है। 2010 में पहले लॉन्च के बाद ही इस ड्रोन पर जासूसी करने का संदेह जताया गया। अमेरिकी रक्षा विभाग ने इस आरोप को खारिज कर दिया। रक्षा विभाग का यह भी कहना है कि यह अभियान किसी अंतरिक्ष आधारित हथियार के विकास से भी नहीं जुड़ा है। 2012 में भी इस ड्रोन पर चीनी सेटेलाइट की जासूसी करने के आरोप लगे। बाद में अमेरिकी एयर फोर्स ने इन दावों को मानने से इनकार किया। इसके बाद भी कई और आरोपों और संदेहों का सिलसिला इस ड्रोन पर जारी रहा। यह अभियान 2010 में पहले लॉन्च के साथ शुरू हुआ था। सौरऊर्जा से चलने वाला ड्रोन पृथ्वी की कक्षा में लंबे समय तक रहा। इसकी पिछली उड़ान 80 दिन तक अंतरिक्ष में रहने के बाद अक्टूबर 2019 में पूरी हुई। इसके साथ कुल मिला कर यह ड्रोन पृथ्वी की कक्षा में 2,865 दिन बिता चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Good News: मिल गया Corona का Killer, अब हवा में ही हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा

नई दिल्ली। जैसे ही डब्लूएचओ ने इस बात को माना कि कुछ खास परिस्थितियों में कोरोना वायरस हवा के माध्यम से भी फैल सकता...

देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 7 लाख 67 हजार के पार, अबतक 21000 से ज्यादा लोगों की जा चुकी है जान

नई दिल्ली: चीनी वायरस कोरोना (Coronavirus) यानी कोविड 19 (Covid 19) के संक्रमण के चेन को तोड़ने के लिए देश में 24 मार्च से...

BIG BREAKING: विकास दुबे उज्‍जैन में गिरफ्तार

नई दिल्‍ली: कानुपर के बिकरू गांव से 8 पुलिसकर्मियों की हत्‍या के बार फरार विकास दुबे को उज्‍जैन में गिरफ्तार कर लिया गया है।...

रेलवे में निजीकरण के आरोप पर बचाव में आये रेल मंत्री, कहा- इससे रोजगार के मौके और यात्री सुविधा बढ़ेगी

कुन्दन सिंह, नई दिल्ली: रेल मंत्रालय के द्वारा 109 रूट्स पर 151 प्राइवेट ट्रेन चलाए के निर्णय से उठे निजीकरण के सवाल के जवाब...