Thursday, July 2, 2020

Coronavirus: दिल्‍ली में हुई PPE किट की कमी, जानिए क्‍या होती PPE किट

वरुण सिन्‍हा, नई दिल्‍ली: देश में कोरोना के मरीजों की तादाद बढ़ने के साथ ही मेडिकल उपकरणों की कमी भी सामने आने लगी है। दिल्‍ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात ने जिस तरह से कोरोना को देश में बढ़ाया है, उससे राष्‍ट्रीय राजधानी में ही PPE किट की कमी हो गई। दिल्‍ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कांफ्रेस में PPE किट के कारण डॉक्टर, नर्स और सभी स्टाफ को होने वाली परेशानियों को लेकर चिंता जाहिर की है।

केजरीवाल ने कहा, ‘मैं नहीं चाहता कि किसी भी डॉक्टर, नर्स को बिना PPE के कोरोना मरीजों का इलाज करना पड़े। कल हमने केंद्र सरकार को लिखा भी था, लेकिन केंद्र सरकार से अभी तक हमें एक भी PPE नहीं मिली है। हम फिर से केंद्र सरकार से आग्रह करते हैं कि हमें PPE किट्स तुरंत दी जाएं ताकि हमारे डॉक्टर मरीजों का बिना किसी डर के इलाज कर सकें।’

क्‍या होती PPE किट

इसे पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट यानी व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण कहते हैं। यानी डॉक्टर, नर्स या बाकी स्टाफ द्वारा कोरोना वायरस से बचने के लिए पहने जाने वाले ग्लव्स, मास्क, चश्मे, सूट आदि सभी पीपीई होते हैं। पीपीई किट की वजह से ही संक्रमण के बीच काम करने के बावजूद डॉक्टर, नर्स और बाकी स्टाफ संक्रमित नहीं होता और सुरक्षित रहता है।

दिल्‍ली में कोरोना से जिन 6 लोगों की मौत हुई है, उनके बारे में बताते हुए केजरीवाल ने कहा कि उनमें से पांच 60 साल के ऊपर के थे  और एक 36 साल की उम्र का। 6 में से 5 को कोई ना कोई दूसरी बड़ी बीमारी थी। 1 को लिवर की बीमारी, 1 को शुगर, 2 को सांस की  और एक को दिल की बीमारी थी।

इसके अलावा जिन लोगों के पास राशन कार्ड नहीं है, उन लोगों के लिए हमने वेबसाइट पर एक छोटा सा फॉर्म बनाया है, उसको आप भर दीजिए जिससे आप रजिस्टर हो जाएंगे। यह इसलिए जरूरी है ताकि लोग कई बाहर राशन ना ले लें। जब से वेबसाइट खुली है तब से 40 से 50 हजार लोग आवेदन कर चुके हैं। बुधवार या गुरुवार से 5 किलो राशन प्रति व्यक्ति मिलना शुरू हो जाएगा। वहीं कल दिल्‍ली में 6,63,928 लोगों को लंच कराया जबकि 6,78,554 लोगों को डिनर कराया गया।

बता दें कि राजधानी में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या बढ़कर 386 हो गई है। इनमें से 8 लोग रोगमुक्त हो चुके हैं, जबकि 6 लोगों की मौत होने की खबर है। इनमें एक वह शख्स भी शामिल था, जिसे निजामुद्दीन स्थित मरकज में हुए तब्लीगी जमात से निकाला गया था। दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए खाद्य बैंकों और आश्रय स्थलों के बारे में पूछताछ के लिए एक वॉट्सएप नंबर, 8800007722 भी जारी किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

चीन का तियां-पांचा तय, गलवान निपटा नहीं, रूस के इस शहर पर ठोंका दावा, देखें क्या बोले पुतिन!

नई दिल्ली। दुनिया की तमाम बड़ी तकतों के साथ ही जब रूस ने भी चीन से गलवान पर गंदी नजर न डालने को कहा...

Recipe: गर्मी और कोरोना दोनों से बचाएगी ये स्पेशल ड्रींक, जानिए इसकी क्विक रेसिपी

नई दिल्ली। इस समय न सिर्फ गर्मी बल्कि कोरोना वायरस से सुरक्षित रहने के लिए ऐसी चीजों का इस्तेमाल या सेवन करना बेहद जरूरी...

नेपाल में सियासी हलचल तेजः राष्ट्रपति मिले प्रचण्ड और ओली, देश के नाम संबोधन में पीएम के इस्तीफे की अटकलें!

नई दिल्ली। नेपाल की राजधानी काठमाण्डु में सियासी गतिविधियां बहुत तेजी से बदल रही हैं। गुरुवार की सुबह से बैठकों का दौर-दौरा जारी रहा।...

आपके मोबाइल फोन तक कैसे पहुंचता है? इंटरनेट क्या आपने कभी सोचा है?

नई दिल्ली। इंटरनेट का हमारे मोबाइल तक पहुंचने में काफी लम्बा प्रोसेस है लेकिन फिर भी हमारी जानकारी नैनो सेकेंड्स में एक जगह से...