जम्मू और कश्मीर: 7 महीने बाद हिरासत से रिहा हुए पूर्व CM उमर अब्दुल्ला

Jammu and Kashmir: जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला तकरीबन 7 महीने की हिरासत के बाद आज रिहा हो गए उमर अब्दुल्ला के ऊपर से जनसुरक्षा कानून (PSA) हटा लिया गया है। PSA हटाने के बाद आज उन्हों रिहा किया गया।

गौरतलब है कि पिछले साल 5 अगस्त को केंद्र ने जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा हटा दिया था और राज्य को लद्दाख और कश्मीर के रूप में राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेश में बांट दिया था। 5 अगस्त 2019 को राज्य से अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35A के अधिकतर प्रावधान रद्द करने संबंधी विधेयक राज्यसभा में पेश किये गए थे।

4 अगस्त की रात को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने से पहले जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला को हिरासत में लिया गया था। उन्हें 5 फरवरी से पब्लिक सेफ्टी एक्ट (PSA) के तहत हिरासत में रखा गया था। इनके साथ ही जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने नेशनल कॉन्फ्रेंस अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला, पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती समेत कई लोगों को पब्लिक सेफ्टी एक्ट (PSA) के तहत हिरासत में लिया था। इनकी हिरासत अवधि तीन-तीन महीने बढ़ाने के आदेश तीन बार जारी हुए। पिछला आदेश 11 मार्च को ही जारी हुआ था। बीते दिनों सरकार ने इसे भी वापस ले लिया था।

गौरतलब है कि उमर अब्दुल्ला के पिता और नेशनल कॉन्फ्रेंस अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला को सरकार ने 13 मार्च को नजरबंदी से रिहा किया था। रिहाई के एक दिन बाद फारूक अब्दुल्ला ने बेटे उमर अब्दुल्ला से मुलाकात की थी। रिहाई के बाद फारूक ने उमर से मिलने की इच्छा व्यक्त की थी जिसके बाद जम्मू कश्मीर प्रशासन ने उन्हें श्रीनगर के उप जेल में उमर से मिलने की इजाजत दी।

उमर अब्दुल्ला की रिहाई ऐसे वक्त हुई है, जब कुछ दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा था कि या तो उन्हें जल्द रिहा करें या फिर कोर्ट अब्दुल्ला की बहन सारा पायलट की याचिका पर सुनवाई करेगा। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री को हिरासत में रखे जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से कहा था कि अगर आप उमर अब्दुल्ला को रिहा कर रहे हैं तो उन्हें जल्द रिहा कीजिए या फिर हम हिरासत के खिलाफ उनकी बहन की याचिका पर सुनवाई करेंगे।

Share