Saturday, July 4, 2020

Corona Virus: चीन की चालबाजियों के चलते दुनिया पर टूटा कोरोना वायरस का कहर!

चीन को मालूम था कि कोरोना वायरस कितना खतरनाक हो सकता है, लेकिन चीन सच्चाई छिपाता रहा। उसके बाद जब जानकारी विश्व स्वास्थ्य संगठन को जानकारी मिली तो वो भी चीन के सुर में सुर मिलाते रहे। चीन और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दुनिया को कोरोना की भयावहता के बारे में तब बताया जब वो पूरी दुनिया में फैल चुका था।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के बारे में चीन और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दुनिया को गुमराह न किया होता तो शायद कोरोना से इतनी भयानक तबाही न होती। दूसरे शब्दों में कहा जाये तो कोरोना वायरस के कारण दुनिया को हो रही जन-धन की अपूर्णीय क्षति के जिम्मेदार चीन और विश्व स्वास्थ्य संगठन हैं। जैसे-जैसे बात खुल रही वैसे-वैसे पता चल रहा है कि चीन को कोरोना वायरस फैलने की जानकारी अक्टूबर में हो गयी थी। लेकिन चीन ने काफी समय बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन को इसकी जानकारी दी। चीन और विश्व स्वास्थ्य संगठन काफी समय तक इस बीमारी की भयावहता को दुनिया को छिपाते रहे और कहते रहे कि यह बीमारी मनुष्यों में एक दूसरे से नहीं फैलती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के पास सारी जानकारी काफी पहले होने के बावजूद कोरोना वायरस को मार्च को महामारी घोषित किया गया। इसी का कारण रहा कि कोरोना पूरी दुनिया में फैल चुका है। इस समय पूरी दुनिया में पांच लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हैं और 23 हजार से ज्यादा लोग अकाल काल के गाल में समा चुके हैं।

चीन के वुहान शहर में पिछले साल दिसंबर महीने में कोरोना वायरस का पहला केस सामने आया था। अब तक यह 5 लाख लोगों को संक्र‍मित कर चुका है। केवल यूरोप में ही अब तक 10 हजार लोग कोरोना वायरस से मारे गए हैं। यूरोप अब इस वायरस का गढ़ बन चुका है। यही नहीं महाशक्ति अमेरिका भी इसके आगे बेबस नजर आ रहा है। कोरोना से अब तक अमेरिका में भी लगभग एक हजार लोगों की जान चली गई है। एक अमेरिकी मैग्जीन नेशनल रिव्यू के मुताबिक 1 दिसंबर, 2019। इस दिन पहले मरीज में कोरोना वायरस का लक्षण सामने आया। पांच दिन बाद मरीज की पत्‍नी भी कोरोना वायरस से पीड़‍ित हो गई और उसे भी अलग-थलग अस्‍पताल में भर्ती कराया गया। दिसंबर के दूसरे सप्‍ताह में वुहान के डॉक्‍टर उन लोगों की तलाश कर रहे थे जिनमें यह वायरस फैला था। इस दौरान यह साफ संकेत सामने आया कि यह वायरस इंसान से इंसान में फैल रहा है। 25 दिसंबर को वुहान के दो चीनी मेडिकल स्‍टाफ में भी कोरोना का लक्षण पाया गया और उन्‍हें अलग-थलग कर दिया गया। बाद में इस अस्‍पताल में कोरोना के कई मामले सामने आए। इस पूरे मामले का खुलासा करने वाले वाले डॉक्‍टर ली वेनलिआंग ने डॉक्‍टरों के एक समूह को चेतावनी दी कि यह सार्स हो सकता है। उन्‍होंने डॉक्‍टरों से कहा कि वे इस वायरस से बचाव के लिए कदम उठाएं। 31 दिसंबर को वुहान के हेल्‍थ कमिशन ने कोरोना के भयानक स्वरूप को छुपाते हुए घोषित किया कि यह वायरस इंसान से इंसान में नहीं फैलता है। 13 जनवरी को पहली बार चीन से बाहर कोरोना वायरस के संक्रमण का पहला मामला थाईलैंड में सामने आया। इस मरीज ने वुहान की यात्रा की थी। उसके बावजूद विश्व स्वास्थ्य संगठन कहता रहा कि यह वायरस इंसानों में परस्पर नहीं फैलता है। बस यही वो सबसे बड़ी खामी रही जिसके कारण आज कोरोना दुनिया भर में अपना खूनी पंजा फैला चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पाकिस्तान में भीषण बस-ट्रेन हादसा, 19 सिख तीर्थयात्रियों की मौत

लाहौर। पाकिस्तान में लाहौर के पास शेखपुरा जिले में एक यात्री बस और ट्रेन के बीच शुक्रवार को हुई टक्कर में कम से कम...

MP Board 10th Result 2020: सबसे पहले एक क्लिक पर यहां देखें अपना स्कोर, रिजल्ट देखने का सबसे आसान तरीका

MPBSE MP Board 10th result 2020: मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (MPBSE) यानि एमपी बोर्ड द्वारा आयोजित 10वीं की बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्रों...

NEET 2020 and JEE Mains 2020: नीट और जेईई परीक्षा एक बार फिर हुई स्थगित, अब इस नई तारीख को होगी आयोजित

NEET 2020 and JEE Mains 2020:  देश  भर में फैले कोरोनावायरस के कारण कई बड़ी परीक्षाएं या तो स्थगित कर दी गई है या...

दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के तेज झटके, देखें 2 महीने में कितने बार कांपी धरती

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में शाम 7 बजे भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। पिछले दो महीने में यह 14वां झटका है। भूकंप का...