Saturday, June 6, 2020

Corona Effect: कोरोना से डरी चीन सरकार, नॉनवेज के खिलाफ बना रही कानून

कोरोना के खूनी जबड़े में 3291 जान जाने के बाद चीन सरकार की नींद टूट रही है। चीन की सरकार अब जंगली और घरेलू जानवरों का मांस खाने के खिलाफ कानून लाने जा रही है। इसके लिए बीजिंग म्युनिसिपल पीपुल्स कांग्रेस ने एक कानूनी मसौदा भी पेश कर दिया है।

बीजिंग। कोरोनावायरस (coronavirus) ने जब बीसियों हजार लोगों को अपना शिकार बना लिया तब जाकर चीन (china) के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को होश आया है। शी जिनपिंग की सरकार ने कानूनी मसौदा बनाया है। जिसके तहत जंगली जानवरों और कीट पतंगों को खाने पर रोक लगाये जाने का प्रस्ताव है। भले ही अभी कोरोनावायरस के सोर्स का आधिकारिक तौर पर पता नहीं चला है मगर बीजिंग प्रशासन को आशंका है कि जंगली जानवरों से यह घातक वायरस फैला। ऐसे में बीजिंग प्रशासन ने एक कड़ा ड्राफ्ट तैयार किया है। जंगली जानवरों वाले क्षेत्रों मे वन्यजीव रोग निगरानी स्टेशन भी स्थापित किए जाने की तैयारी है।

दरअसल, बीजिंग म्युनिसिपल पीपुल्स कांग्रेस ने कहा है कि अगर जिंदा रहना है तो नॉनवेज खाना छोड़ना होगा। जो लोग इस नये कानून का उल्लंघन करेंगे उन्हें सख्त सजा की सिफारिश भी की गयी है। इस मसौदे की चर्चा के बाद यह भी खुसफुसाहट है कि क्या चीनी नागरिक कभी वेज सोसाइटी बन भी पायेंगे।

चाईनीज मीडिया रिपोर्ट के अनुसार बीजिंग म्युनिसिपल पीपुल्स कांग्रेस की 15वीं स्थाई समिति की मीटिंग में जानवरों को खाने और उनके शिकार पर रोक लगाने से जुड़े ड्राफ्ट पर चर्चा हुई। खास बात यह कि यह बैठक अपने तय समय से दो महीने पहले बुलाई गयी थी। दरअसल, बीजिंग के कई क्षेत्रों में काफी जंगली जानवर रहते हैं। पांच सौ प्रजाति से अधिक जानवर हैं। तैयार ड्राफ्ट के मुताबिक राजधानी के किसी भी हिस्से में वर्षभर जानवरों के शिकार पर रोक लगेगी। जो नियमों का उल्लंघन करेगा उस पर जुर्माना भी लगेगा। ड्राफ्ट में न सिर्फ जंगली बल्कि मानव आबादी के बीच रहने वाले जानवरों के भी शिकार और खाने पर रोक लगेगी और इनका व्यापार भी प्रतिबंधित रहेगा।

बीजिंग म्युनिसिपल पीपुल्स कांग्रेस की ग्रामीण कमेटी ने सुझाव दिया है कि नियम का उल्लंघन करने पर मारे गए जानवर का दो से 15 गुना जुर्माना लगाया जाए। हालांकि, कोविड-19 का सोर्स अभी तक निर्धारित नहीं हुआ है, लेकिन शोधकर्ताओं का मानना है कि 70 प्रतिशत अधिक नए संक्रामक रोक जंगली जानवरों से उत्पन्न हुए हैं। नतीजतन, उन क्षेत्रों में वन्यजीव रोग मॉनिटर स्टेशन स्थापित करने की योजना है, जहां बीमारी फैलने का खतरा ज्यादा है। अगर कोई जानवरों का शिकार कर उसे खाने की कोशिश करेगा तो कोई भी व्यक्ति सूचना दे सकता है।

इससे पूर्व 24 फरवरी को, नेशनल पीपुल्स कांग्रेस यानी चीन की शीर्ष विधायिका की स्थायी समिति ने भी अवैध वन्यजीव व्यापार पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने और लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए जंगली जानवरों को खाने की आदतों को खत्म करने का निर्णय लिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

चीन की बर्बादी का प्लान तैयार, अमेरिका के साथ आए 8 देशों ने एक साथ खोला मोर्चा

नई दिल्ली। भारत की दुनिया में बढ़ रही ताकत के आगे अब बीजिंग भी झुकने पर मजबूर है। इस बात को अगर इस तरह...

25 स्‍कूलों में एकसाथ पढ़ाकर 1 करोड़ सैलरी लेने वाली फर्जी शिक्षिका अनामिका शुक्ला गिरफ्तार

मानस श्रीवात्‍सव, लखनऊ: यूपी की कासगंज पुलिस ने एक फ़र्ज़ी शिक्षिका को उस समय गिरफ्तार कर लिया, जब वह अपने साथी के साथ बीएसए...

Psy Ops: भारत के खिलाफ चाणक्‍य की यह नीति अपना रहा है चीन

नई दिल्‍ली: लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर एक बार फिर तनाव बढ़ा हुआ है। दोनों ही देशों के...

भारत ने पकड़ी चीन की चोरी! मीटिंग में ले.जन. हरिंदर से आंखे नहीं मिला सका चीनी जनरल

नई दिल्ली। आसमानी आंखों ने एक बार फिर चीन की चोरी पकड़ ली है। भारत ने चीन की चोरी के ये सुबूत कमाण्डर लेवल...