Saturday, July 4, 2020

कोरोना से लड़ाई में मदद के लिए कारोबारियों ने बढ़ाए हाथ, अनिल अग्रवाल देंगे इतने करोड़ रुपये

देश (India) में कोरोना वायरस (Coronavirus) लगातार पांव पसारता जा रहा है, जिसकी वजह से 7 लोग मौत के गाल में समा गए है, जबकि 398 संक्रमित हैं। उम्मीद लगाई जा रही थी

नई दिल्ली: देश (India) में कोरोना वायरस (Coronavirus) लगातार पांव पसारता जा रहा है, जिसकी वजह से 7 लोग मौत के गाल में समा गए है, जबकि 398 संक्रमित हैं। उम्मीद लगाई जा रही थी कि कारोबार (Business) एवं उद्योग जगत (Industrial) इस महामारी से निपटने के लिए आगे आएगा। इसकी शुरूआत हो गई है आनंद महिंद्रा द्वारा घोषणा करने के बाद अब वेदांता ग्रुप के चेयरमैन अनिल अग्रवाल और पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा ने भी बड़ी सहायता देने की घोषणा कर दी है। अनिल अग्रवाल ने कोरोना को रोकने के लिए 100 करोड़ रुपये देने का ऐलान किया है।इसी तरह पेटीएम के संस्थापक विजय शर्मा ने कोरोना वायरस की दवा बनाने के लिए 5 करोड़ रुपये देने की बात कही है।

गौरतलब है कि कारोबार जगत से सबसे पहले महिंद्रा ऐंड महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने मदद के लिए आगे आकर रविवार को आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया था। वह अपनी पूरी सैलरी इसके लिए स्वेच्छा से दान करेंगे। उन्होंने अपने सहयोगियों से भी कोरोना से जुड़े फंड लिए दान करने को कहाष उन्होंने अगले महीनों में और योगदान करने की बात कही।

जानें अनिल अग्रवाल ने क्या कुछ कहा

अनिल अग्रवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं इस महामारी से लड़ाई के लिए 100 करोड़ रुपये देने का वचन दे रहा हूं। हमें देश की जरूरत के लिए वचन के तहत यह कर रहे हैं। यह वह समय है जब देश को हमारी सबसे ज्यादा जरूरत है। बहुत से लोग भविष्य को लेकर अनिश्चित हैं और मैं खासकर रोज कमाकर गुजारा करने वालों के लिए चिंतित हूं। हम अपनी तरफ से मदद की पूरी कोशिश करेंगे।

इसके पहले आनंद महिंद्रा ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘कई रिपोर्ट के आधार पर यह माना जा सकता है कि कोरोना महामारी के मामले में भारत स्टेज-3 में प्रवेश कर चुका है। आगे यह तेजी से बढ़ सकता है और लाखों लोग इसके शिकार हो सकते हैं और इससे हमारे मेडिकल ढांचे पर भारी दबाव पड़ेगा।

वहीं पेटीएम ने कोरोना वायरस की दवा विकसित करने के लिए भारतीय रिसर्चर्स को पांच करोड़ रुपये देने की बात कही है। पेटीएम के संस्थापक और सीईओ विजय शेखर शर्मा ने रविवार को ट्वीट किया, ‘हमें अधिक संख्या में भारतीय इनोवेटर्स, शोधकर्ताओं की जरूरत है जो वेंटिलेटर की कमी और कोविड के इलाज के लिए देसी समाधान खोज सकें। पेटीएम कोविड संबंधित चिकित्सा समाधानों पर काम करने वाले ऐसे दलों को पांच करोड़ रुपये देगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पाकिस्तान में भीषण बस-ट्रेन हादसा, 19 सिख तीर्थयात्रियों की मौत

लाहौर। पाकिस्तान में लाहौर के पास शेखपुरा जिले में एक यात्री बस और ट्रेन के बीच शुक्रवार को हुई टक्कर में कम से कम...

MP Board 10th Result 2020: सबसे पहले एक क्लिक पर यहां देखें अपना स्कोर, रिजल्ट देखने का सबसे आसान तरीका

MPBSE MP Board 10th result 2020: मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (MPBSE) यानि एमपी बोर्ड द्वारा आयोजित 10वीं की बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्रों...

NEET 2020 and JEE Mains 2020: नीट और जेईई परीक्षा एक बार फिर हुई स्थगित, अब इस नई तारीख को होगी आयोजित

NEET 2020 and JEE Mains 2020:  देश  भर में फैले कोरोनावायरस के कारण कई बड़ी परीक्षाएं या तो स्थगित कर दी गई है या...

दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के तेज झटके, देखें 2 महीने में कितने बार कांपी धरती

नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में शाम 7 बजे भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। पिछले दो महीने में यह 14वां झटका है। भूकंप का...