Monday, April 6, 2020

कोरोना से लड़ाई में मदद के लिए कारोबारियों ने बढ़ाए हाथ, अनिल अग्रवाल देंगे इतने करोड़ रुपये

देश (India) में कोरोना वायरस (Coronavirus) लगातार पांव पसारता जा रहा है, जिसकी वजह से 7 लोग मौत के गाल में समा गए है, जबकि 398 संक्रमित हैं। उम्मीद लगाई जा रही थी

नई दिल्ली: देश (India) में कोरोना वायरस (Coronavirus) लगातार पांव पसारता जा रहा है, जिसकी वजह से 7 लोग मौत के गाल में समा गए है, जबकि 398 संक्रमित हैं। उम्मीद लगाई जा रही थी कि कारोबार (Business) एवं उद्योग जगत (Industrial) इस महामारी से निपटने के लिए आगे आएगा। इसकी शुरूआत हो गई है आनंद महिंद्रा द्वारा घोषणा करने के बाद अब वेदांता ग्रुप के चेयरमैन अनिल अग्रवाल और पेटीएम के संस्थापक विजय शेखर शर्मा ने भी बड़ी सहायता देने की घोषणा कर दी है। अनिल अग्रवाल ने कोरोना को रोकने के लिए 100 करोड़ रुपये देने का ऐलान किया है।इसी तरह पेटीएम के संस्थापक विजय शर्मा ने कोरोना वायरस की दवा बनाने के लिए 5 करोड़ रुपये देने की बात कही है।

गौरतलब है कि कारोबार जगत से सबसे पहले महिंद्रा ऐंड महिंद्रा समूह के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने मदद के लिए आगे आकर रविवार को आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया था। वह अपनी पूरी सैलरी इसके लिए स्वेच्छा से दान करेंगे। उन्होंने अपने सहयोगियों से भी कोरोना से जुड़े फंड लिए दान करने को कहाष उन्होंने अगले महीनों में और योगदान करने की बात कही।

जानें अनिल अग्रवाल ने क्या कुछ कहा

अनिल अग्रवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं इस महामारी से लड़ाई के लिए 100 करोड़ रुपये देने का वचन दे रहा हूं। हमें देश की जरूरत के लिए वचन के तहत यह कर रहे हैं। यह वह समय है जब देश को हमारी सबसे ज्यादा जरूरत है। बहुत से लोग भविष्य को लेकर अनिश्चित हैं और मैं खासकर रोज कमाकर गुजारा करने वालों के लिए चिंतित हूं। हम अपनी तरफ से मदद की पूरी कोशिश करेंगे।

इसके पहले आनंद महिंद्रा ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘कई रिपोर्ट के आधार पर यह माना जा सकता है कि कोरोना महामारी के मामले में भारत स्टेज-3 में प्रवेश कर चुका है। आगे यह तेजी से बढ़ सकता है और लाखों लोग इसके शिकार हो सकते हैं और इससे हमारे मेडिकल ढांचे पर भारी दबाव पड़ेगा।

वहीं पेटीएम ने कोरोना वायरस की दवा विकसित करने के लिए भारतीय रिसर्चर्स को पांच करोड़ रुपये देने की बात कही है। पेटीएम के संस्थापक और सीईओ विजय शेखर शर्मा ने रविवार को ट्वीट किया, ‘हमें अधिक संख्या में भारतीय इनोवेटर्स, शोधकर्ताओं की जरूरत है जो वेंटिलेटर की कमी और कोविड के इलाज के लिए देसी समाधान खोज सकें। पेटीएम कोविड संबंधित चिकित्सा समाधानों पर काम करने वाले ऐसे दलों को पांच करोड़ रुपये देगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

इसलिए इंडियन क्रिकेटर एसोसिएशन पर बुरी तरह भड़क गए सुनील गावस्कर

कोरोना वायरस की वजह से सभी खिलाड़ी लॉकडाउन में रहने को मजबूर हैं। इसी वजह से कोई भी स्पोर्टिंग इवेंट नहीं हो रहा है।...

तबलीगी जमात की खबर दिखाने पर न्‍यूज चैनलों को मिल रही धमकियों की NBA ने की निंदा

नई दिल्‍ली: तबलीगी जमात की खबर दिखाए जाने के बाद सोशल मीडिया पर टीवी चैनलों में काम करने वाले एंकरों और पत्रकारों को मिल...

कोरोना पर दुनियाभर के लैब में रिसर्च जारी, जानें- कबतक आएगा वैक्सीन

नई दिल्ली: वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) यानी कोविड 19 (Covid 19) के संक्रमण से दुनियाभर के 200 से ज्यादा देशों में हाहाकार मचा...

यूपी सरकार ने शुरू किया होम डिलीवरी ‘सप्लाई मित्र पोर्टल’, घर बैठे ही मिलेगा राशन

नई दिल्‍ली: कोरोना वायरस से लड़ने के लिए यूपी सरकार हर प्रयास कर रही है। लोगों को लॉकडाउन में हो रहे राशन और दूसरे...