Friday, July 3, 2020

ल़ॉकडाउन में लोगों की समस्या के लिए देवदूत साबित हो रहा ये हेल्पलाइन नंबर

कोरोना वायरस से पूरी दुनिया इन दिनों त्राहिमाम-त्राहिमाम कर रही है, जिसकी वजह से अब तक करीब सवा तीन लाख लोग जान गंवा चुके हैं।

जयपुरः कोरोना वायरस (CoronaVirus) से पूरी दुनिया इन दिनों त्राहिमाम-त्राहिमाम कर रही है, जिसकी वजह से अब तक करीब सवा तीन लाख लोग जान गंवा चुके हैं। भारत सरकार (India Government) ने कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए देशव्यापी लॉकडाउन लागू कर रखा है। वहीं राज्य सरकारें भी इससे निपटने के लिए बड़े-बड़े कदम उठा रही है। इसी कड़ी में राजस्थान सरकार ने कोरोना के खिलाफ लोगों की मदद के लिए कोविड-19 हेल्पलाइन नंबर ‘181’ पर प्रतिदिन 30,986 कॉल आ रही है।

लॉकडाउन के पहले तीनों चरणों में 24 मार्च से 18 मई के बीच 30,986 कॉल की गई है। चौथा लॉकडाउन शुरू होते ही अकेले 18 मई को हेल्पलाइन पर पूरे राज्य भर से 58,469 कॉल आए हैं। लोगों ने घर बैठे लॉकडाउन के पहले तीन चरणों के दौरान हेल्पलाइन पर लगभग 2,16,702 शिकायतें दर्ज करवाई गई। जिनमें से 2,04,321 का तत्काल निवारण कर दिया गया। इस हिसाब से 94 प्रतिशत शिकायतें निपटा दी गई हैं।

बता दें कि ये शिकायतें राज्य के सभी जिलों से आई थी। कॉल में विभिन्न सवालों में प्रशासनिक विभागों से संबंधित सवाल भी थे। राज्य के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार हेल्पलाइन के अधिकारियों ने पूरी तरह से यह सुनिश्चित किया है कि लॉकडाउन, कर्फ्यू, या वित्तीय प्रतिबंधों के दौरान कॉल करने वाले सभी लोगों की समस्या का समाधान घर बैठे किया जाए। साथ में, कॉल ड्रॉप होने पर भी कॉल बैक करके लोगों की समस्या का समाधान किया जाए।

सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग के प्रधान सचिव अभय कुमार का कहना है कि- घोषणा के 24 घंटे के भीतर हेल्पलाइन पर बहुत सारे कॉल आ रहे हैं। कॉल की संख्या बहुत ज्यादा होने के बावजूद भी ज्यादातर शिकायतों का समाधान छह घंटे के भीतर किया जा रहा है और इस प्रकार 94 प्रतिशत शिकायतों का निपटारा किया जा चुका है।

हेल्पलाइन ने कॉल करने वालों को पर्याप्त राहत प्रदान करने के लिए संबंधित जिला प्रशासन, स्वास्थ्य और गृह विभाग एक दूसरे के संपर्क में है। जहां जरूरतमंदों को भोजन और राशन दिया गया था, जबकि कई अन्य मामलों में दवा और आने-जाने के लिए पास भी दिए जा रहे है।

राज्य के निवासियो के लिए तात्कालिक राहत का स्रोत बनी हेल्पलाइन नंबर 181 अभी चालू रहेगी। जबकि प्रवासी मजदूरों के सामने आ रही समस्याओं को दूर करने के लिए एक और टोल फ्री हेल्पलाइन 1800 180 6127 स्थापित कर दी गई है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने तीसरे चरण के लॉकडाउन में थोड़ी छूट देते हुए कहा था कि ‘‘ अगर नागरिक किसी भी संबंधित सरकारी अधिकारी से सीधे संपर्क करने में असमर्थ हैं, तो वे 181 के जरिए राज्य के वॉर रूम तक पहुंच सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए इंग्लैंड के क्रिकेटरों ने जश्न का निकाला नया तरीका, खूब हो रहा वायरल

प्रदीप सहगल, नई दिल्लीः कोरोना वायरस की वजह से क्रिकेट के नियमों में काफी बदलाव किए गए हैं। इस वायरस की वजह से खिलाड़ियों...

MPBSE MP Board 10th result 2020: कल इस समय जारी होगा कक्षा 10वीं का रिजल्ट, mpbse.nic.in पर ऐसे करें चेक

MPBSE MP Board 10th result 2020: मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (MPBSE) यानि एमपी बोर्ड द्वारा आयोजित 10वीं की बोर्ड परीक्षा देने वाले छात्रों...

Trailer: वर्जिन भानुप्रिया का ट्रेलर आउट, अजीब बीमारी से जुझती दिखीं उर्वशी

मुंबई। लॉकडाउन में ज़िंदगी जैसे रुक सी गई थी, लेकिन अनलॉक 1 के लागू होने के बाद से ही हर किसी ने राहत की...

10वीं-12वीं पास के लिए निकलीं होमगार्ड में सिपाही की बंपर भर्ती, इस तारीक तक करें आवेदन

नई दिल्लीः कोरोना वायरस का कहर को देखते हुए सरकार ने देशव्यापी लॉकडाउन लागू कर रखा है, जिसके बाद अब थोड़ी-थोड़ी गतिविधियों को चलाने...