Wednesday, July 8, 2020

25 स्‍कूलों में एकसाथ पढ़ाकर 1 करोड़ सैलरी लेने वाली फर्जी शिक्षिका अनामिका शुक्ला गिरफ्तार

शिक्षका एक साथ करीब 25 स्‍कूलों में पढ़ा रही थी। यही नहीं उसको सैलरी के रूप में 1 करोड़ रुपये का भुगतान भी किया गया। यह घोटाला उस समय पकड़ में आया जब शिक्षकों का एक डेटाबेस बनाया जा रहा था।

मानस श्रीवात्‍सव, लखनऊ: यूपी की कासगंज पुलिस ने एक फ़र्ज़ी शिक्षिका को उस समय गिरफ्तार कर लिया, जब वह अपने साथी के साथ बीएसए ऑफिस में अपना इस्तीफा देने पहुंची थी। शिक्षिका पर आरोप है कि उसके डॉक्यूमेंट पर प्रदेश के कई कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में एक साथ फर्जी तरीके से कई लोग नौकरी कर रहे हैं।

मामला सुर्खियों में आने के बाद शिक्षिका अनामिका शुक्ला आज कासगंज बीएसए ऑफिस में इस्तीफा देने आ रही थी। प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री ने आज ही उसे बर्खास्त करने और फर्जीवाड़े की जांच के आदेश दिए हैं। फ़र्ज़ी शिक्षिका को बीएसए ऑफिस के गेट पर ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। सारे मामले की पुष्टि बीएसए कासगंज अंजलि अग्रवाल ने की है।

शिक्षिका अनामिका शुक्ला की गिरफ्तारी पर बीएसए कासगंज अंजली अग्रवाल ने बताया कि राज्य परियोजना कार्यालय लखनऊ के मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक द्वारा पत्र आया था, जिसमें ऐसा प्रकरण संज्ञान में आया था कि अनामिका शुक्ला पुत्री सुभाष चंद्र शुक्ला के डॉक्यूमेंट पर कई जनपदों में अलग-अलग लोग कस्तूरबा विद्यालय में कार्य कर रहे हैं। जिसमें हमारे जनपद का भी नाम था। कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय फरीदपुर में यह कार्यरत थी इनको नोटिस जारी किया था, जिसके क्रम में यह यहां त्यागपत्र देने आई थी तो हमने इन्हें पुलिस के सुपुर्द कर दिया है।

क्‍या था मामला

शिक्षका एक साथ करीब 25 स्‍कूलों में पढ़ा रही थी। यही नहीं उसको सैलरी के रूप में 1 करोड़ रुपये का भुगतान भी किया गया। यह घोटाला उस समय पकड़ में आया जब शिक्षकों का एक डेटाबेस बनाया जा रहा था। कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय (केजीबीवी) में काम करने वाली टीचर अंबेडकर नगर, बागपत, अलीगढ़, सहारनपुर और प्रयागराज जैसे जिलों के कई स्कूलों में एक साथ काम कर रही थीं। मानव सेवा पोर्टल पर शिक्षकों के डिजिटल डेटाबेस में शिक्षकों के व्यक्तिगत रिकॉर्ड, जुड़ने और पदोन्नति की तारीख की आवश्यकता होती है।

रिकॉर्ड अपलोड होने के बाद यह पाया गया कि अनामिका शुक्ला नाम की टीचर एक साथ 25 स्कूलों में सूचीबद्ध थीं। केजीबीवी कमजोर वर्गों की लड़कियों के लिए चलाया जाने वाला एक आवासीय विद्यालय है, जहां शिक्षकों को अनुबंध पर नियुक्त किया जाता है। उन्हें प्रति माह लगभग 30,000 रुपये का भुगतान किया जाता है। जिले के प्रत्येक ब्लॉक में एक कस्तूरबा गांधी स्कूल है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Video: सनी लियोन ने पूल में लगाई छलांग, वीडियो ने सोशल मीडिया पर मचाया जबरदस्त धमाल

मुंबई। बॉलीवुड(Bollywood) की हॉट एंड ग्लैमरेस एक्ट्रेस(Actress) सनी लियोन(Sunny Leone) अपनी बोल्ड तस्वीरों और वीडियोज से सोशल मीडिया का टैम्परेचर बढ़ाने का कोई मौका...

जिहाद के नाम पर PoK में महिलाओं को बनाया जा रहा है सेक्‍स-स्‍लेव

नई दिल्‍ली: पाकिस्तान ने सात दशक लंबे कब्‍जे के बाद PoK को कश्मीर के मुद्दे से रणनीतिक लाभ उठाने की नीति के बाद इस्लामी...

RBSE 12th Science result 2020 Live updates: rajresults.nic.in पर जारी हुआ रिजल्ट, ऐसे करें चेक

RBSE 12th Science result 2020: राजस्थान बोर्ड के 12वीं के विद्यार्थियों के लिए एक खुशखबर सामने आई है। दरअसल राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने...

बाजार में सैमसंग जल्द लाएगा ये 5 स्मार्टफोन, जरूर जानें इनकी डिटेल

नई दिल्लीः टेक कंपनी सेल बढ़ाने और आर्थिक स्थिति के पहिये को पटरी पर लाने के लिए काम करने में जुटी हैं। दुनिया की...