TrendingNavratri 2024lok sabha election 2024IPL 2024UP Lok Sabha ElectionNews24PrimeBihar Lok Sabha Election

---विज्ञापन---

Explainer: क्या है माइकोप्लाज्मा निमोनिया? क्या संभव है चीन में फैल रही अजीब बीमारी का इलाज?

Mycoplasma Pneumonia in China: कोरोना के बाद से पूरी दुनिया इस बात को लेकर डरी हुई है कि चीन अपने यहां आई किसी नई बीमारी के बारे में बताएगा नहीं।

Edited By : Shubham Singh | Updated: Nov 27, 2023 19:14
Share :

China Pneumonia Outbreak: कोरोना महामारी के बाद अब चीन में एक और खतरनाक बीमारी फैलने लगी है। इस अजीब बीमारी ने दुनियाभर को डरा दिया है। इसे लेकर भारत सरकार भी अलर्ट हो गई है। भारत सरकार की तरफ से एडवाइजरी जारी की गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन में इस रहस्यमयी बीमारी का जोखिम बढ़ता जा रहा है। यह बीमारी बच्चों को अपनी चपेट में ले रही है और मरीजों से अस्पताल भरे हुए हैं। इमर्जेंसी वार्ड में मरीजों की लाइन लगी हुई है।

जहां यह बीमारी फैल रही है वहां स्कूलों को बंद कर दिया गया है और अभिभावकों से सतर्क रहने के लिए कहा गया है। इस बीमारी से सांस लेने में दिक्कत आ रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी इसे लेकर अलर्ट जारी किया है और चीन से जानकारी मांगी है। 22 नवंबर को WHO ने इसके बारे में जानकारी मांगी है।

ये भी पढ़ें-Cyber ​​Crime: सावधान! फ्रॉड के इस तरीके पर विश्वास नहीं होगा, 60 रुपए के चक्कर में गंवाए 16 लाख

माइकोप्लाज्मा निमोनिया के मामले चीन में लगातार बढ़ रहे हैं। इसे रहस्यमयी निमोनिया आउटब्रेक कहा जा रहा है। यह बीमारी उत्तरी चीन में फैल रही है। जिसमें निमोनिया जैसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं और फेफड़ों में भी दिक्कत आ रही है। कोरोना के बाद से पूरी दुनिया इस बात को लेकर डरी हुई है कि चीन अपने यहां आई किसी नई बीमारी के बारे में बताएगा नहीं, जिससे यह बीमारी फैल जाएगी।

देखिए-चीन में तेजी से फैल रही बीमारी पर रिपोर्ट

क्या है माइकोप्लाज्मा निमोनिया

माइकोप्लाज्मा निमोनिया को मिस्टीरियस निमोनिया भी कहा जा रहा है। यह बीमारी एक तरह के बैक्टीरिया की वजह से होती है। यह ज्यादातर बच्चों में होती है। सूखी खांसी, बुखार और सांस लेने में दिक्कत इसके प्रमुख लक्षण हैं। माइकोप्लाज्मा निमोनिया छोटे बच्चों को प्रभावित करने वाला एक सामान्य बैक्टीरियल इनफेक्शन है। माइकोप्लाज्मा निमोनिया संक्रमण के मामलों की संख्या सांस के लक्षणों वाले लगभग एक-चौथाई मामलों के लिए जिम्मेदार है। चाइना डेली ने पिछले महीने बच्चों में माइकोप्लाज्मा निमोनिया के मामलों में वृद्धि का हवाला देते हुए एक रिपोर्ट दी थी।

ये भी पढ़ें-Explainer: दुनिया की पहली जीन थेरेपी ट्रीटमेंट को मंजूरी से लाखों मरीजों को कैसे होगा फायदा? समझिए यहां

First published on: Nov 27, 2023 06:58 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

---विज्ञापन---

संबंधित खबरें
Exit mobile version