Wednesday, July 8, 2020

शिवराज सिंह की इस चिट्ठी ने ममता बनर्जी की बढ़ाई टेंशन

कोरोना संकट के कारण जारी लॉकडाउन की वजह से बड़ी तादाद में लोग इधर उधर फंसे हुए हैं। लेकिन सबसे ज्यादा टेंशन प्रवासी मजदूरों की घर वापसी को लेकर है। इन सबके बीच मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की एक चिट्ठी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को उलझन में डाल दिया है।

नई दिल्ली: कोरोना संकट के कारण जारी लॉकडाउन की वजह से बड़ी तादाद में लोग इधर उधर फंसे हुए हैं। लेकिन सबसे ज्यादा टेंशन प्रवासी मजदूरों की घर वापसी को लेकर है। इन सबके बीच मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की एक चिट्ठी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को उलझन में डाल दिया है। शिवराज सिंह चौहान की इस चिट्ठी से प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर बीजेपी शासित राज्यों की सरकारों और पश्चिम बंगाल सरकार की रार एक बार फिर खुलकर सामने आ गई है।

शिवराज सिंह चौहान ने ममता बनर्जी को चिट्ठी लिखकर कहा है कि वे इंदौर में फंसे बंगाली मजदूरों की घरवापसी के लिए इंतजाम करें। दरअसल पूरे देश में प्रवासी मजदूरों की घरवापसी पर उठे बवाल के बीच ममता बनर्जी लगातार केंद्र सरकार पर हमलावर रही हैं। वे केंद्र सरकार पर मजदूरों की अनदेखी का आरोप लगाती रही हैं, लेकिन शिवराज की चिट्ठी के बाद उनकी उलझनें बढ़ गई हैं।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने लिखा है, ‘इंदौर में फंसे बंगाल के मजदूर अपने घर जाने चाहते हैं, लेकिन लंबी दूरी और परिवहन के लिए शासकीय साधन नहीं होने से प्रवासी मजदूर निजी वाहनों के जरिए पश्चिम बंगाल जा रहे हैं, जो महंगा होने के साथ-साथ असुविधाजनक और असुरक्षित विकल्प है।’

सीएम शिवराज ने आगे लिखा है कि ‘मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए केंद्र की ओर से श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही हैं। राज्यों के अनुरोध पर ट्रेनें चल रही हैं। अब तक एमपी सरकार के अनुरोध पर 85 श्रमिक ट्रेनों के जरिए एक लाख 7 हजार मजदूरों की घर वापसी हुई है।’ सीएम ममता बनर्जी से अपील करते हुए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने लिखा, ‘जो लोग इंदौर से घर जाना चाहते हैं, उनकी सुविधा के लिए इंदौर और कोलकाता के बीच स्पेशल ट्रेन चलाए जाने की आवश्यकता है। इसके लिए आप केंद्रीय रेल मंत्रालय से अनुरोध कीजिए, ताकि मजदूरों को कोई समस्या न हो।’

शिवराज की चिट्ठी से ममता के लिए उहापोह की स्थिति पैदा हो गई है। वे केंद्र सरकार पर गैर-बीजेपी शासित राज्यों के साथ भेदभाव का आरोप लगा चुकी हैं। ऐसे में रेल मंत्रालय से बंगाल के लिए अलग से ट्रेन चलाने की मांग करना मुश्किल हो सकता है। दूसरी ओर, शिवराज की चिट्ठी की अनदेखी से उन पर अपने राज्य के मजदूरों पर ध्यान नहीं देने का आरोप लग सकता है।

आपको बता दें कि 11 मई को मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम मोदी की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर कई आरोप लगाए थे। ममता बनर्जी ने केंद्र पर राज्यों को विश्वास में नहीं लेने का भी आरोप लगाया था। इसको लेकर शिवराज सिंह पहले ही ममता बनर्जी पर निशाने पर ले चुके हैं। शिवराज सिंह चौहान ने इशारों-इशारों में केंद्र सरकार का बचाव करते हुए कहा था कि पीएम मोदी सबको साथ लेकर चल रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ट्विटर ने पायल रोहतगी का अकाउंट किया सस्पेंड, एक्ट्रेस ने जताई नाराजगी

मुंबई। बॉलीवुड में इन दिनों जबरदस्त उथल-पुथल मची हुई है। ट्रोलिंग से लेकर नेपोटिज्म तक के मुद्दे पर बॉलीवुड सेलेब्स को जमकर ट्रोल किया जा...

आज गोगरा इलाके से पीछे हटेगी चीनी सेना, भारत-चीन में हुआ ये समझौता

मनीष कुमार, नई दिल्‍ली: गलवान हिंसा के बाद तनाव को कम करने के लिए भारत और चीन के अधिकारियों की तीन बार बैठक हुई।...

पाकिस्तान ने दावा, कुलभूषण जाधव ने पुनर्विचार याचिका दायर करने से किया इनकार

नई दिल्‍ली: पाकिस्तान ने दावा किया है कि भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव ने समीक्षा याचिका दायर करने से इनकार कर दिया है वह और...

शिल्पा शेट्टी के नाम पर हुई करोड़ों की धोखाधड़ी, केस दर्ज

मुंबई। इन दिनों बॉलीवुड सेलिब्रिटीज के नाम पर धोखाधड़ी के मामले आम हो गए हैं। बॉलीवुड के बड़े-बड़े सेलेब्स के नाम पर पहले ही...