Wednesday, July 8, 2020

Coronavirus: सरकार का आदेश, रेड और ऑरेंज जोन में रहने वालों के लिए यह काम करना जरूरी

सरकार ने रेड और ग्रीन जोन में रहने वाले लोगों के लिए एक आदेश पारित किया है, जिसको करवाने की जिम्‍मेदारी वहां के अधिकारी को दी गई है। सरकार ने ऐसा इसलिए किया है, ताकि यहां पर रहने वाले लोगों की स्‍क्रीनिंग आसानी से घर बैठे हो सके।

प्रशांत देव, नई दिल्‍ली: देश में बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों को देखते हुए गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन को 4 मई से दो सप्ताह आगे बढ़ाने का निर्णय किया। इसके साथ ही गृह मंत्रालय ने इस लॉकडाउन में रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन के हिसाब से कुछ छूट भी दी है। लेकिन सरकार ने रेड और ग्रीन जोन में रहने वाले लोगों के लिए एक आदेश पारित किया है, जिसको करवाने की जिम्‍मेदारी वहां के अधिकारी को दी गई है। सरकार ने ऐसा इसलिए किया है, ताकि यहां पर रहने वाले लोगों की स्‍क्रीनिंग आसानी से घर बैठे हो सके।

गृह मंत्रालय ने जो आदेश पारित किया है, उसके अनुसार कोविड-19 के फैलाव और रेड एवं ऑरेंज जोन को देश के सबसे संवेदनशील क्षेत्रों को नियंत्रण क्षेत्र (कंटेनमेंट जोन) के रूप में निर्दिष्‍ट किया गया है। ये ऐसे क्षेत्र हैं, जहां संक्रमण फैलने का सबसे बड़ा जोखिम है।

आरोग्‍य एप डाउनलोड करना जरूरी

आदेश के अनुसार, इन दोनों की जोन में स्थानीय प्राधिकारी कंटेनमेंट जोन के निवासियों के बीच आरोग्य सेतु एप की 100% कवरेज सुनिश्चित करेगा। इसी के साथ कंटेनमेंट जोन के लिए गहन निगरानी प्रोटोकॉल होंगे, जिनमें मरीज के संपर्क में आए लोगों का पता लगाना, घर-घर की निगरानी, किसी व्‍यक्ति से जुड़े जोखिम के आकलन के आधार पर उसका होम/संस्थागत क्‍वारंटाइन भी शामिल हैं।

क्‍या है रेड जोन:
रेड जोन के रूप में जिलों का वर्गीकरण करते समय सक्रिय मामलों की कुल संख्या, कन्‍फर्म मामले दोगुनी होने की दर, जिलों से प्राप्‍त कुल परीक्षण (टेस्टिंग) और निगरानी सुविधा संबंधी जानकारियों को ध्यान में रखा जाएगा।

क्‍या है ऑरेंज जोन:
वे जिले, जिन्हें न तो रेड जोन और न ही ग्रीन जोन के रूप में परिभाषित किया गया है, उन्‍हें ऑरेंज जोन के रूप में वर्गीकृत किया जाएगा।

क्‍या है ग्रीन जोन:
यह ऐसे जिले होंगे ज‍हां या तो अब तक संक्रमण का कोई भी पुष्ट (कन्‍फर्म) मामला नहीं आया है अथवा पिछले 21 दिनों में कोई पुष्ट मामला सामने नहीं आया है।

देश में यह गतिविधियां रहेंगी प्रतिबंधित:
हवाई, रेल, मेट्रो और सड़क द्वारा अंतर-राज्यीय आवाजाही के द्वारा यात्रा।
विद्यालय, महाविद्यालय और अन्य शैक्षणिक तथा प्रशिक्षण/ कोचिंग संस्थानों के लिए जाना।
होटल और रेस्टोरेंट सहित आतिथ्य सेवाएं।
सिनेमाघरों, मॉल, जिम, खेल परिसरों आदि स्थानों पर बड़ी संख्या में लोगों का इकट्ठा होना।
सामाजिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक और अन्य प्रकार की सभाएं।
लोगों की आवाजाही पर शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक सख्ती से प्रतिबंध जारी रहेगा।
सीआरपीसी की धारा 144 के अंतर्गत निषेध आदेश (कर्फ्यू) जैसे कानून के उचित प्रावधानों के अंतर्गत आदेश जारी रहेंगे।
सभी जोन में 65 वर्ष से ज्यादा उम्र के व्यक्तियों, बीमार लोगों, गर्भवती महिलाओं और 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को आवश्यक जरूरतों और स्वास्थ्य उद्देश्यों को छोड़कर घर पर ही रहना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

ट्विटर ने पायल रोहतगी का अकाउंट किया सस्पेंड, एक्ट्रेस ने जताई नाराजगी

मुंबई। बॉलीवुड में इन दिनों जबरदस्त उथल-पुथल मची हुई है। ट्रोलिंग से लेकर नेपोटिज्म तक के मुद्दे पर बॉलीवुड सेलेब्स को जमकर ट्रोल किया जा...

आज गोगरा इलाके से पीछे हटेगी चीनी सेना, भारत-चीन में हुआ ये समझौता

मनीष कुमार, नई दिल्‍ली: गलवान हिंसा के बाद तनाव को कम करने के लिए भारत और चीन के अधिकारियों की तीन बार बैठक हुई।...

पाकिस्तान ने दावा, कुलभूषण जाधव ने पुनर्विचार याचिका दायर करने से किया इनकार

नई दिल्‍ली: पाकिस्तान ने दावा किया है कि भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव ने समीक्षा याचिका दायर करने से इनकार कर दिया है वह और...

शिल्पा शेट्टी के नाम पर हुई करोड़ों की धोखाधड़ी, केस दर्ज

मुंबई। इन दिनों बॉलीवुड सेलिब्रिटीज के नाम पर धोखाधड़ी के मामले आम हो गए हैं। बॉलीवुड के बड़े-बड़े सेलेब्स के नाम पर पहले ही...