Tuesday, June 2, 2020

चीन को लेकर अमेरिका ने भारत को किया आगाह, सौंपी ये रिपोर्ट

चीन ने हांगकांग को लेकर कुछ कानून भी बदले हैं, जिसके बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि चीन अपने पड़ोसियों के प्रति कड़ा रुख अख्तियार करने की कोशिश में लगा हुआ है। इसी को देखते हुए अमेरिका ने भारत को एक रिपोर्ट के माध्‍यम से चेताया है।

नई दिल्‍ली: चीन में इस समय एक वार्षिक बैठक चल रही है। जिसमें ड्रैगन ने अपने रक्षा बजट में इजाफा किया है। हालांकि उसने जीडीपी के बारे यहां पर कोई बात नहीं की है, लेकिन ताइवान और हांगकांग को लेकर इस बैठक में कहा गया है कि वह एक देश, दो प्रणाली के तहत ही चलेंगे। चीन ने हांगकांग को लेकर कुछ कानून भी बदले हैं, जिसके बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि चीन अपने पड़ोसियों के प्रति कड़ा रुख अख्तियार करने की कोशिश में लगा हुआ है। इसी को देखते हुए अमेरिका ने भारत को एक रिपोर्ट के माध्‍यम से चेताया है।

अमेरिका की तरह से जो रिपोर्ट सौंपी गई है, उससे पहले भी दक्षिण एवं मध्य एशिया मामलों से जुड़ी अमेरिका की वरिष्ठ राजनयिक एलिस जी वेल्स ने थिंक टैंक अटलांटिक काउंसिल से कहा था कि चीन यथास्थिति को बदलने की कोशिश के तहत भारत से लगती सीमा और दक्षिणी चीन सागर में लगातार आक्रामक रुख अपना रहा है। भारत और चीन के बीच सीमा पर तनाव के संबंध में एक सवाल के जवाब में वेल्स ने आरोप लगाया था कि चीन यथास्थिति को बदलने की कोशिश के तहत लगतार भड़काऊ और परेशान करने वाला रुख अख्तियार किए हुए है।

अमेरिका ने दी ये जानकारी

भारत से लगी हुई सीमा पर लगातार चीन अपनी सैन्‍य ताकत को बढ़ा रहा है, इसी सैन्‍य हलचल को लेकर अमेरिका ने भारत को आगाह किया है। अमेरिका ने कहा है कि चीन भारत सहित पड़ोसी देशों के साथ सैन्‍य और अर्धसैनिक गतिविधियों में लगा हुआ है। व्‍हाइट हाउस की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन का यह संकेत बेहद खतरनाक है और भारत को इसे हलके में नहीं लेना चाहिए। हालांकि भारत ने चीन के इस क्रियाकलाप का जोरदार विरोध किया है।

भारत के द्वारा लगाई गई चीन को लताड़ का अमेरिका ने भी समर्थन किया है। व्‍हाइट हाउस की रिपोर्ट में कहा गया है कि बीजिंग पूर्व, दक्षिण चीन सागर और ताइवान सहित भारत की सीमा के पास सैनिक बढ़ाने में लगा हुआ है। ऐसा करके चीन अपने पड़ोसियों के प्रति अपनी प्रतिबधताओं का खंड़न करता है। कांग्रेस को सौंपी गई इस रिपोर्ट में चीन की गतिविधियों पर चिंता जाहिर की गई है। इसमें कहा गया है कि चीन अब ताकतवर हो चुका हैं और वह अपने पड़ोसियों को डरा-धमकाकर सीमा विस्‍तार में लगा हुआ है।

बता दें कि 5 मई को लद्दाख के पेंगोंग झील क्षेत्र में भारत और चीन के लगभग 250 सैनिकों के बीच झड़प हो गई थी। इस दौरान दोनों ओर से पथराव भी हुआ था। इस घटना में दोनों देशों के सैनिक घायल हुए थे। इसी तरह की एक अन्य घटना 9 मई को सिक्किम सेक्टर में नाथूला पास के पास भी हुई थी, जहां दोनों देशों के लगभग 150 सैनिकों के बीच जमकर हाथापाई हुई थी। सूत्रों के अनुसार इस घटना में दोनों पक्षों के कम से कम 10 सैनिक घायल हुए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

महाराष्ट्र और गुजरात पर बढ़ा चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ का खतरा, NDRF की कई टीमें तैनात

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच देश पर एक नया खतरा मंडरा रहा है। बंगाल और ओडिशा में चक्रवाती तूफान अम्फान की तबाही के...

क्या भारत के नाम से हट जाएगा ‘इंडिया’? सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

प्रभाकर मिश्रा, नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट आज उस याचिका पर सुनवाई करेगा जिसमें मांग की गई है कि संविधान संसोधन करके इंडिया शब्द हटा...

Aaj ka Rashifal 2 June 2020:  इन राशि वालों को आज रहना होगा सावधान वरना बिगड़ सकते हैं काम, जानें अपना राशिफल

Aaj ka Rashifal 2 June 2020: आज दिनांक 2 जून 2020 और दिन मंगलवार (Mangalwar ka Rashifal) है। आज का दिन सभी 12 राशियों...

‘CHAMPIONS’ से मजबूत होंगे छोटे उद्योग, रोजगार की लग जायेगी झड़ी!

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की मीटिंग में 20 लाख करोड़ के पैकेज और लोकल के लिए वोकल अभियान...