2012 रेप-मर्डर केस, ‘साक्ष्य को नज़रअंदाज किया…’ SC के दोषियों को बरी करने के फैसले को चुनौती

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट द्वारा 19 वर्षीय एक महिला के गैंगरेप और हत्या के मामले में निचली अदालत द्वारा दोषी ठहराए गए तीन लोगों को बरी किए जाने के लगभग एक महीने बाद परिवार ने अब आदेश की समीक्षा की मांग की है। 19 वर्षीय लड़की को दिल्ली से अगवा किया गया था जो बाद में हरियाणा में मृत पाई गई थी। महिला के पिता की ओर से पुनर्विचार याचिका दाखिल की गई है।

एडवोकेट एस शर्मा ने संवाददाताओं से कहा कि हमने पीड़िता के माता-पिता की ओर से एक समीक्षा याचिका दायर की है। कुछ ऐसे मुद्दे थे जिन्हें शीर्ष अदालत के संज्ञान में नहीं लाया गया था। हमारी मांग है कि आदेश को वापस लिया जाए और ट्रायल कोर्ट द्वारा पारित आदेश की पुष्टि की जाए।”

पिछले महीने भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश (CJI) उदय उमेश ललित की अध्यक्षता वाली तीन-न्यायाधीशों की पीठ ने कहा, “परिस्थितियों की समग्रता और रिकॉर्ड पर सबूतों के संबंध में यह मानना ​​मुश्किल है कि अभियोजन पक्ष ने अपराध साबित किया था।

याचिका में कहा गया है कि “सुप्रीम कोर्ट के 7 नवंबर के फैसले में रिकॉर्ड के सामने त्रुटियां स्पष्ट हैं” शीर्ष अदालत ने “महत्वपूर्ण सबूतों की अनदेखी की”। लगभग दो हफ्ते पहले दिल्ली ने अपील में शीर्ष अदालत के आदेश को भी चुनौती दी थी जिसे उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने मंजूरी दे दी थी।

उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल जिले से ताल्लुक रखने वाली एक महिला का दिल्ली में अपहरण किए जाने के लगभग 10 साल बाद इस मामले में तीन लोगों को बरी कर दिया गया, जिसने भारी आक्रोश पैदा कर दिया था। वह हरियाणा के रेवाड़ी जिले में एक खेत में मृत पाई गई थी। 9 फरवरी 2012 को वह राष्ट्रीय राजधानी में छावला कैंप स्थित अपने घर से करीब 10 मिनट की दूरी पर बस से उतरी थी। वह गुरुग्राम के साइबर सिटी में एक निजी कंपनी के साथ काम करती थी, और दो दोस्तों के साथ घर जा रही थी जब एक कार में पुरुषों द्वारा उसका अपहरण कर लिया गया।

- विज्ञापन -

देश और दुनिया की ताज़ा खबरें सबसे पहले न्यूज़ 24 पर फॉलो करें न्यूज़ 24 को और डाउनलोड करे - न्यूज़ 24 की एंड्राइड एप्लिकेशन. फॉलो करें न्यूज़ 24 को फेसबुक, टेलीग्राम, गूगल न्यूज़.

- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
- विज्ञापन -
Exit mobile version