Trendinglok sabha election 2024IPL 2024News24Primehardik pandya

---विज्ञापन---

World AIDS Day: दो HIV पॉजिटिव लोगों का रिलेशन सुरक्षित है या नहीं, जानें ऐसी ही सात आम गलफहमियों की सच्चाई

world-aids-day : 7 common myths about HIV/AIDS debunked ; आज एड्स दिवस पर हम एचआईवी/एड्स को लेकर लोगों के मन में घर किए सात आम गलतफहमियों और उनके पीछे के तथ्यों पर बात कर रहे हैं।

Edited By : Balraj Singh | Updated: Dec 1, 2023 16:05
Share :

पूरी दुनिया में 1 दिसंबर को एड्स दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसके पीछे का मकसद लोगों को जागरूक करना है कि किस तरह की सावधानियां बरतकर वो सुरक्षित रह सकते हैं। इस बात में कोई दो राय नहीं कि एचआईवी/एड्स के साथ काफी हद तक सामाजिक कलंक जुड़ा होता है। इसके अलावा इसके खतरे से डरकर कुछ लोग प्रभावितों के साथ उठने-बैठने, खाने-पीने या स्पर्श तक से भी गुरेज करते हैं। इतना ही नहीं एड्स को लेकर और भी कई मिथक हैं। आज विश्व एड्स दिवस पर कुछ आम गलतफहमियों और उनके पीछे की सच्चाई को जानना बेहद जरूरी है।

मिथक 1:एचआईवी छूने, खांसने और हाथ मिलाने से फैलता है

तथ्य: सच तो यह है कि एचआईवी इनमें से किसी से भी नहीं फैलता है। यह केवल शरीर के तरल पदार्थ जैसे स्तन के दूध, भोजन, वीर्य या योनि स्राव के आदान-प्रदान से फैलता है।

मिथक 2: एचआईवी पीड़ित की कुछ महीनों के भीतर ही मौत हो जाती है

तथ्य: एचआईवी/एड्स के मरीज़ हमेशा कुछ महीनों के भीतर ही नहीं मरते। यदि अच्छी तरह से प्रबंधन किया जाए, तो बीमारी से पीड़ित लोग दीर्घकालिक वायरल दमन के लिए दवा की मदद से कई वर्षों तक जीवित रह सकते हैं।

मिथक 3: दो एचआईवी पॉजिटिव मरीजों के लिए अंतरंग संबंध बनाना सुरक्षित है

तथ्य – यहां तक कि असुरक्षित यौन संबंध बनाने वाले दो एचआईवी पॉजिटिव रोगियों में भी वायरस के विकसित होने और खतरनाक स्ट्रेन में फैलने का खतरा होता है।

यह भी पढ़ें: एक दिसंबर को मनाया जाता है World AIDS Day, जानिए थीम, लक्षण से लेकर बचाव

मिथक 4 : एचआईवी पॉजिटिव महिलाओं से पैदा होने वाले बच्चे भी पॉजिटिव होंगे

तथ्य – सच तो यह है कि एचआईवी पॉजिटिव महिलाओं से पैदा हुए बच्चों को इसके संक्रमण से बचाया जा सकता है। संचरण के जोखिम को 2 प्रतिशत से कम करने का सबसे आसान तरीका कुछ एहतियाती उपाय करना या सी-सेक्शन या एंटीरेट्रोवाइरल उपचार पर भरोसा करना है।

मिथक 5 – बिना लक्षण वाले एचआईवी रोगियों को एचआईवी नहीं होता

तथ्य – एचआईवी कभी-कभी रक्त प्रवाह में प्रवेश कर सकता है और लक्षण प्रकट होने में वर्षों लग जाते हैं। इस मामले में निदान पाने का एकमात्र तरीका संक्रमण के लिए परीक्षण कराना है।

यह भी पढ़ें: क्या है UTI, यूरिन इंफेक्शन से जिसका कनेक्शन, महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए खतरनाक

मिथक 6 : संक्रमितों के साथ भोजन और बर्तन साझा करने से वायरस फैल सकता है

तथ्य : विशेषज्ञों के अनुसार, एचआईवी पॉजिटिव मरीज के साथ भोजन, पेय और बर्तन साझा करने से संचरण का खतरा नहीं बढ़ता है। इन माध्यमों से वायरस नहीं फैलता है।

मिथक 7 : अगर एचआईवी परीक्षण नेगेटिव आता है तो सुरक्षित यौन संबंधों के मानदंडों पर चिंता करने की जरूरत नहीं है

तथ्य : कुछ उच्च जोखिम वाले रोगियों को GP24 परख जैसे कई परीक्षणों से जांच करने की आवश्यकता होती है और हर 3-6 महीने में एंटीबॉडी परीक्षण भी दोहराना पड़ता है क्योंकि शरीर को एंटीबॉडी विकसित करने में समय लग सकता है।

First published on: Dec 01, 2023 03:58 PM

Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 on Facebook, Twitter.

---विज्ञापन---

संबंधित खबरें
Exit mobile version