Tuesday, June 2, 2020

IIT दिल्ली के रिसर्च में बड़ा खुलासा, इस जड़ी-बूटी से कोरोना का इलाज संभव

कोरोना का इलाज ढूंढने में भारत बड़ी कामयाबी की ओर बढ़ता नज़र आ रहा है। अश्वगंधा नाम की औषधि से कोविड-19 की कारगर दवा बन सकती है। ये खुशखबरी IIT दिल्‍ली ने दी है। IIT के बायोकेमिकल इंजीनियरिंग विभाग में प्रोफेसर डी.सुंदर ने जापान के साथ मिलकर अश्वगंधा पर उम्मीदें जगाने वाली एक रिसर्च की है।

पल्लवी झा, नई दिल्ली: कोरोना का इलाज ढूंढने में भारत बड़ी कामयाबी की ओर बढ़ता नज़र आ रहा है। अश्वगंधा नाम की औषधि से कोविड-19 की कारगर दवा बन सकती है। ये खुशखबरी IIT दिल्‍ली ने दी है। IIT के बायोकेमिकल इंजीनियरिंग विभाग में प्रोफेसर डी.सुंदर ने जापान के साथ मिलकर अश्वगंधा पर उम्मीदें जगाने वाली एक रिसर्च की है। इस खोज के मुताबिक अश्वगंधा में मौजूद कुछ ख़ास तत्व कोविड-19 के इलाज में बहुत काम आ सकते हैं।

अश्वगंधा को लेकर सामने आई रिसर्च में एक ख़ास केमिकल का पता चला है। IIT दिल्ली और जापान के इंस्टीट्यूट के मुताबिक अश्वगंधा में एक ऐसा रसायनिक पदार्थ होता है, जो कोविड-19 को कोशिकाओं में विकसित होने से रोकने में कारगर हो सकता है। यानी हमारे शरीर के सेल्स में कोरोना वायरस को बढ़ने से रोकता है। IIT दिल्ली के प्रोफेसर डी.सुंदर के मुताबिक करीब 15 साल से अश्वगंधा पर जापान के इंस्टिट्यूट के साथ मिलकर रिसर्च जारी है।

उन्होंने बताया कि हमारे इस शोधपत्र की पहली रिपोर्ट को अंतरराष्ट्रीय शोध पत्रिका जर्नल ऑफ बायोमॉलिक्यूलर डायनामिक्स में प्रकाशित होने की मंज़ूरी मिल गई है, अश्वगंधा और प्रोपोलीस यानी मधुमक्खी के छत्ते के अंदर पाया जाने वाला मोमी गोंद के प्राकृतिक रसायनों में कोविड-19 की रोकथाम करने वाली औषधि बनने की क्षमता है।रिसर्च टीम में शामिल वैज्ञानिकों ने अनुसंधान के दौरान इसमें बड़ी संभावना देखी है।

अश्वगंधा को किस प्रकार कोविड-19 की दवा के रूप में विकसित किया जा सकता है, इसकी प्रकिया और वायरस पर इसके असर की पूरी प्रणाली की रूपरेखा तैयार की जा रही है। कोरोना की दवा का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे लोगों को ये भी जानना चाहिए कि अश्वगंधा को आख़िर कोरोना वायरस को रोकने में कारगर कैसे माना जा रहा है।

कोरोना वायरस पर अश्वगंधा के असर को लेकर शुरुआती रिसर्च में क्या पाया गया…

  • वायरस को ख़त्म करने के लिए उसे रोकना ज़रूरी है।
  • वायरस शरीर में आकर अपनी संख्या बढ़ाता है।
  • वायरस हमारे शरीर के सेल्स को संक्रमित करता है।
  • संक्रमित सेल वायरस के साथ मिलकर तेज़ी से बढ़ते हैं।
  • इससे संक्रमण शरीर में बहुत जल्दी फैलने लगता है।
  • संक्रमित सेल शरीर के अंगों को नुकसान पहुंचाने लगते हैं।
  • दवाएं या वैक्सीन वायरस को रोकने का काम करते हैं।

वायरस को जो दवा या पदार्थ रोकते हैं, वही असली इलाज होता है।अश्वगंधा का एक रसायन यानी केमिकल वायरस को रोकता है। इसलिए अश्वगंधा से कोरोना वायरस की दवा विकसित हो सकती है।

आयुष मंत्रालय के निर्देश पर अन्य औषधियों के साथ अश्वगंधा में कोरोना की रोकथाम की उम्मीद ढूंढने के लिए रिसर्च चल रही हैं। वैज्ञानिकों ने प्रयोगशाला में अश्वगंधा और प्रोपोलीस के और अधिक मेडिकल ट्रायल किए जाने की ज़रूरत बताई है। प्रोफेसर डी. सुंदर के मुताबिक औषधि विकसित करने में थोड़ा समय लग सकता है। लेकिन, मौजूदा वक्त में अश्वगंधा और प्रोपोलीस असरदार साबित हो सकते हैं। भारत में कई तरह की बीमारियों के इलाज के लिए अश्वगंधा का आयुर्वेदिक उपचार दशकों से होता रहा है। केंद्र सरकार ने अश्वगंधा में कोरोना वायरस को लेकर संभावनाएं तलाशने के लिए टास्क फोर्स बनाई थी। आयुष मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय, ICMR और प्रौद्योगिकी मंत्रालय की टीम बनी टास्क फोर्स ने अश्वगंधा, यष्टिमधु, गुडुची और पिपाली पर रिसर्च की।

आयुष-64 यानी मलेरिया की दवा को लेकर भी कोविड-19 पर रिसर्च की रिसर्च में अश्वगंधा का कोविड-19 वायरस पर पहला असर नज़र आया।रिसर्च टीम के मुताबिक अश्वगंधा और प्रोपोलीस ने कोरोना वायरस को रोका प्रोपोलीस मुधमक्खी के छत्ते के अंदर पाया जाने वाला मोम जैसा गोंद होता है।

रिसर्च में अश्वगंधा और प्रोपोलीस ने कोविड-19 एंज़ाइम को निशाना बनाया अब अश्वगंधा से कोविड-19 की कारगर दवा पर रिसर्च जारी है। इसके लिए अत्याधुनिक लैब में दवा का ट्रायल होना चाहिए कुछ ही समय में अश्वगंधा वाली दवा से क्लीनिकल ट्रायल हो सकता है।

डॉ. परमेश्वर अरोड़ा के एमडी गंगाराम हॉस्पिटल के मुताबिक अश्वगंधा में मौजूद तत्वों को कई और अहम दवाओं के लिए विकसित किया जा रहा है। कोरोना वायरस रोकने वाली दवा के अलावा सरकार इस बात पर भी रिसर्च करवा रही है कि क्या ये मलेरिया को रोकने वाली दवा हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन का विकल्प भी बन सकता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

महाराष्ट्र और गुजरात पर बढ़ा चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ का खतरा, NDRF की कई टीमें तैनात

नई दिल्ली: कोरोना संकट के बीच देश पर एक नया खतरा मंडरा रहा है। बंगाल और ओडिशा में चक्रवाती तूफान अम्फान की तबाही के...

क्या भारत के नाम से हट जाएगा ‘इंडिया’? सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

प्रभाकर मिश्रा, नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट आज उस याचिका पर सुनवाई करेगा जिसमें मांग की गई है कि संविधान संसोधन करके इंडिया शब्द हटा...

Aaj ka Rashifal 2 June 2020:  इन राशि वालों को आज रहना होगा सावधान वरना बिगड़ सकते हैं काम, जानें अपना राशिफल

Aaj ka Rashifal 2 June 2020: आज दिनांक 2 जून 2020 और दिन मंगलवार (Mangalwar ka Rashifal) है। आज का दिन सभी 12 राशियों...

‘CHAMPIONS’ से मजबूत होंगे छोटे उद्योग, रोजगार की लग जायेगी झड़ी!

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की मीटिंग में 20 लाख करोड़ के पैकेज और लोकल के लिए वोकल अभियान...